Mamta banerji

पश्चिम बंगाल . Mamta banerji देशभर में वैश्विक महामारी कोरोना के चलते लगभग सभी राज्यों में प्राथमिक और माध्यमिक क्लासेस ऑनलाइन चल रहे है. कई राज्यों में प्राथमिक स्तर के विद्यालय लम्बे समय से बंद है. प्राथमिक स्कूल के छात्रों को पढ़ाने के लिए ममता सरकार ने एक बड़ा फैसला लिया है. पश्चिम बंगाल शिक्षा विभाग ने ‘पाड़ाय शिक्षालय’ (पड़ोस का स्कूल) शुरू करने का ऐलान किया है. इसके तहत सात फरवरी से प्राथमिक (Primary School) और पूर्व-प्राथमिक सरकारी स्कूलों के छात्रों को खुले में इक्ठा कर पढ़ाया जाएगा। इस मुहीम के तहत कक्षा 1 से लेकर 5 तक के बच्चो को प्राथमिक विद्यालय के शिक्षक पढ़ाएंगे और उन्हें बेसिक जानकारी प्रदान करेंगे।

7 फ़रवरी से शुरू होगा ‘पाड़ाय शिक्षालय’

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बताया कि कोविड-19 महामारी (Coronavirus) की वजह से लगे प्रतिबंधों के कारण बच्चे पढ़ाई से वंचित हैं. हमारी सरकार ने बच्चो के अच्छे भविष्य के लिए यह फैसला लिया है. इस मुहीम के तहत बच्चो को प्राथमिक शिक्षा के साथ-साथ चित्रकारी समेत विभिन्न पाठ्येतर गतिविधियों में बहग लेने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा।

राज्य के शिक्षा मंत्री ब्रात्य बसु ने बताया कि पाड़ाय शिक्षालय प्रदेश में 7 फ़रवरी से शुरू किया जाएगा और इस मुहीम से गरीब और गलियों में रहने वाले बच्चो को शिक्षा, सामाजिक समर्थन, नाच-कूद, गीत और संस्कृति के बारे में बताया जाएगा।

बीते दिन पश्चिम बंगाल में कोरोना के 6980 नए मामलें

पश्चिम बंगाल में बीते दिन कोरोना के 6980 मामलें सामने आए थे, वहीँ इस वायरस से कल 36 लोगों की मौत हुई थी. कल आए मामलों के बाद राज्य में कोरोना का संक्रमण दर 9 फीसदी के पार चले गया है, वहीँ एक्टिव केस की संख्या 1,10,183 हो गई हैं.

यह भी पढ़ें :-

OTT Paltform : दीपिका पादुकोण की ” गहराइयां ” कल होगी ओटीटी पर रिलीज़

Bollywood : ऋषि कपूर की आखरी फिल्म ” शर्मा जी नमकीन ” होगी जल्द रिलीज़

SHARE

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर