नई दिल्ली. गौतम बुद्ध नगर के ग्रेटर नोएडा में जेवर इंटरनेश्नल एयरपोर्ट के लिए किसानों की ओर से 70 प्रतिशत से अधिक जमीन को सहमति मिल गई है. 2,357 किसानों ने अपनी 916 हेक्टेयर खेती की जमीन के अधिग्रहण को लेकर लिखित में सहमति दे दी है. बता दें कि इससे पहले बीते गुरुवार को जेवर से विधायक धीरेंद्र सिंह रावत ने पारोही गांव में एक चौपाल लगाकर न सिर्फ ग्रामीण को इस पर समझाया था बल्कि उन्हें इसके लिए रजामंद भी किया. 15 अक्टूबर को इसका शिलान्यास किया जाना है. इस परियोजना को लेकर प्रधानमंत्री कार्यालय परियोजना की प्रगति पर नजर बनाए हुए है. एयरपोर्ट को तैयार किए जाने के लिए पहले चरण में छह गांवों की 1334 हेक्टेयर जमीन का अधिग्रहण किया जाएगा. बता दें कि इसमें 116 हेक्टेयर जमीन राज्य सरकार की है.

एक्सप्रेसवे औद्योगिक विकास प्राधिकरण (वाईईआईडीए) के एक अधिकारी ने बताया कि भूमि अधिग्रहण, पुनर्वास और पुनर्स्थापन अधिनियम, 2013 में उचित मुआवजे और पारदर्शिता के अधिकार के तहत, अधिकारियों को इस क्षेत्र के प्रभावित परिवारों में से कम से कम 70 प्रतिशत से सहमति प्राप्त करनी होगी. वह संख्या अभी तक नहीं पहुंच पाई है क्योंकि अधिकारियों को अभी तक भूमिहीन किसानों से सहमति नहीं मिली है. यह आंकड़ा लक्ष्य के करीब है.

धीरेंद्र सिंह ने कहा कि हम भूमिहीन किसानों और अन्य लोगों से सहमति प्राप्त करने के लिए काम कर जो अभी तक अपनी जमीन देने के लिए सहमत नहीं हुए हैं. मुझे अभी तक सहमति परिवारों के प्रतिशत के लिए आधिकारिक सूची नहीं मिली है.

विरासत में मिली गड्ढा युक्त सड़कों को 100 दिन में गड्ढा मुक्त किया: सीएम योगी

गांवों को 18 घंटे बिजली और बच्चों को अंग्रेजी पढ़ाने जैसे कई बड़े फैसले योगी सरकार ने आधी रात को कर डाले