Friday, February 3, 2023
spot_img

यूपी से बंगाल तक सुलगी हिंसा, कहीं हुई गिरफ्तारियां तो कही लगा कर्फ्यू, जानें हिंसा से जुड़ी 10 बड़े अपडेट

नई दिल्ली: बीजेपी नेता नुपूर शर्मा और नवीन जिंदल की ओर से पैगंबर मोहम्मद पर की गई विवादित टिप्पणियों को लेकर हिंसक प्रदर्शनों के 1 दिन बाद भी देश के कई हिस्सों में तनाव जारी है। बीजेपी से निलंबित नेता नूपुर शर्मा की गिरफ्तारी की मांग को लेकर झारखंड के रांची में हुई हिंसा में 2 लोगों की मौत हो गई, तो वहीं पश्चिम बंगाल के हावड़ा में हिंसक प्रदर्शन से तनाव और बढ़ गया। हिंसा को लेकर उत्तर प्रदेश पुलिस ने अलग-अलग जिलों से करीब 255 लोगों को गिरफ्तार किया है और अन्य लोगों की धरपकड़ अभी भी जारी है। आज कानपुर विकास प्राधिकरण ने हिंसा के मुख्य आरोपियों के एक करीबी सहयोगी के स्वामित्व वाली एक ऊंची इमारत पर बुलडोजर भी चला दिया।

हिंसा से जुड़ी 10 बड़े अपडेट-

1- उत्तर प्रदेश पुलिस ने अलग-अलग जिलों से करीब 255 लोगों को गिरफ्तार किया है। सहारनपुर और प्रयागराज में पुलिस अधिकारियों ने कहा कि गिरफ्तार लोगों के खिलाफ कड़े राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत कार्रवाई की जाएगी। अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक प्रशांत कुमार ने शनिवार को एक बयान में कहा कि गिरफ्तार लोगों में से 68 को प्रयागराज में और 50 को हाथरस में गिरफ्तार किया गया। उन्होंने कहा कि सहारनपुर में 55, अंबेडकर में 28, मुरादाबाद में 25 फिरोजाबाद में 8 और अलीगढ़ में 3 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। इन सभी लोगो से पूछताछ की जा रही है और अन्य लोगो की तालाश जारी है। उन्हें बताया कि CCTV फुटेज के माध्यम से भी आरोपियों को खोजा जा रहा है।

2- यूपी में सुलगी हिंसा पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों को निर्देश जारी करते हुए कहा पिछले कुछ दिनों में विभिन्न शहरों में माहौल खराब करने की अराजक कोशिश में शामिल रहे असामाजिक तत्वों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि सभ्य समाज में ऐसे असामाजिक लोगों के लिए कोई जगह नहीं है। किसी भी निर्दोष को परेशान नहीं किया जाना चाहिए लेकिन एक भी दोषी को बख्शा नहीं जाना चाहिए। सीएम योगी ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि सभी उपद्रवी तत्वों पर प्रभावी कार्रवाई की जाएं।

3- वहीं, जमीयत उलेमा ए हिंद ने पैगंबर मोहम्मद के अपमान का विरोध करने को मुसलमानों का संवैधानिक अधिकार बताते हुए कहा कि पुलिस गोलीबारी, बुलडोजर का इस्तेमाल और अंधाधुंध तरीके से लोगों को गिरफ्तार करके इस अधिकार का हनन करना किसी भी लोकतांत्रिक सरकार के लिए शर्म की बात है। जमीयत के महासचिव मौलाना हकीमुद्दीन कासमी ने कहा कि पैगंबर का अपमान कतई बर्दाश्त नहीं किया जा सकता है। इसका विरोध करना मुसलमानों और देश के न्याय प्रिय नागरिकों का संवैधानिक और लोकतांत्रिक अधिकार है। उन्होंने आगे कहा कि सरकारों को समझना चाहिए कि प्रदर्शनकारी देश के नागरिक हैं, इसलिए उनके साथ विदेशी दुश्मन जैसा व्यवहार नहीं किया जाना चाहिए।

4- हिंसा के खिलाफ हिंदू संगठनों के आह्वान पर झारखंड की राजधानी में शनिवार को बंद रखा गया। इस दौरान जिले में लगभग 2500 पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया और इंटरनेट को निलंबित रखा गया। झारखंड के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि राज्य के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने 2 सदस्य समिति का गठन किया है, जिसमें वरिष्ठ आईएएस अधिकारी अमिताभ कौशल और अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक संजय लौटकर शामिल हैं। यह समिति हिंसा की जांच करेगी जिसमें 2 लोगों की मौत हो गई और कम से कम 24 अन्य घायल हो गए। उन्होंने बताया कि समिति को 1 सप्ताह में अपनी रिपोर्ट राज्य सरकार को सौंपने को कहा गया है।

5- दिल्ली में पुलिस उपायुक्त श्वेता चौहान ने कहा कि दिल्ली पुलिस ने जामा मस्जिद के बाहर शुक्रवार को हुए प्रदर्शन के संबंध में भारतीय दंड संहिता की धारा 188 के तहत मामला दर्ज किया है और आगे की जांच जारी है। कल जामा मस्जिद परिसर में बड़ी संख्या में लोग एकत्र हुए थे जिनमें से कुछ ने तख्तियां ले रखी थी। प्रदर्शन करने वाले लोगों ने नारेबाजी की। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि कुछ लोग थोड़े समय बाद वहां से चले गए लेकिन कुछ लोग जमे रहे।

6- पश्चिम बंगाल के हावड़ा जिले के पांचला बाजार इलाके में शनिवार को फिर हिंसा हुई, जहां प्रदर्शनकारी पुलिस से भिड़ गए और कई घरों में आग लगा दी गई। बीजेपी के कार्यालय में भी तोड़फोड़ की गई। हावड़ा जिले के कई हिस्सों में शुक्रवार को पथराव हुआ था। पुलिस वाहनों में भी आग लगा दी गई थी और सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाया गया। इसके चलते 13 जून तक पूरे जिले में इंटरनेट सेवाओं को निलंबित कर दिया गया है और 15 जून तक उलुबेरिया, डोमजूर और पांचला जैसे कई क्षेत्रों में सीआरपीसी की धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लागू कर दी गई है।

7- जम्मू कश्मीर में कश्मीरी youtuber फैसल वानी को शांति भंग करने और जनता में भय पैदा करने के आरोप में तब गिरफ्तार कर लिया गया जब उसने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर नुपूर शर्मा का सिर काटने संबंधी वीडियो पोस्ट किया। दूसरी तरफ जम्मू में चिनाब घाटी के कुछ हिस्सों में हिंसक विरोध प्रदर्शन के बाद कर्फ्यू लगा हुआ है, जबकि कुछ मुस्लिम संगठनों एक दिन के बंद का आह्वान किया। एहतियात के तौर पर भद्रवाह और किश्तवाड़ कस्बो सहित कई इलाकों में ब्रॉडबैंड और मोबाइल इंटरनेट सेवा बंद चल रही है।

8- महाराष्ट्र के भी कई शहरों में विरोध प्रदर्शन हुए
पनवेल में लगभग 3000 लोगों ने एक प्रदर्शन में हिस्सा लिया। नवी मुंबई पुलिस ने आयोजकों के खिलाफ महाराष्ट्र पुलिस अधिनियम के तहत प्राथमिकी दर्ज की क्योंकि पुलिस की अनुमति नहीं ली गई थी। नागपुर शहर के गणेश पेठ पुलिस स्टेशन, औरंगाबाद शहर के सिटी चौक पुलिस स्टेशन और नंदुरबार जिले के शहादा में भी इसी तरह की प्राथमिकी दर्ज की गई है। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि अहमदाबाद नगर, जालना और सोलापुर शहरों में भी मामले दर्ज किए गए हैं।

9- हिंसक विरोध के मद्देनजर कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने कहा कि उन्होंने पुलिस को राज्य में कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए सभी कदम उठाने के निर्देश दिए है। सीएम बोम्मई ने कहा कि ‘ मैंने हुबली-धारवाड़ के पुलिस आयुक्त और धारवाड़ के पुलिस अधीक्षक को उचित कदम उठाने के लिए कहा है। साथ ही सभी पुलिस थानों के निरीक्षकों को निर्देश दिया गया कि वह अपने-अपने क्षेत्र के समुदाय के नेताओं से बातचीत करें ताकि शांति और सद्भाव बरकरार रहे।

10- एआईएमआईएम प्रमुख ओवैसी ने कहा कि इस मुद्दे पर किसी को भी हिंसा में शामिल नहीं होना चाहिए और ना ही पुलिस को कानून ल अपने हाथ में लेना चाहिए। उन्होंने कहा कि नुपूर शर्मा के टिप्पणियों के बाद बीजेपी ने उनके खिलाफ समय पर कार्रवाई नहीं की जिसके बाद ये बड़ा विवाद पैदा हो गया। AIMIM चीफ ने कहा कि नुपूर शर्मा को गिरफ्तार किया जाना चाहिए। बीजेपी को उन्हें गिरफ्तार करने में क्या दिक्कत है, क्यों वे कानूनी कार्रवाई नही करते है।

यह भी पढ़े;

India Presidential Election: जानिए राष्ट्रपति चुनाव से जुड़ी ये 5 जरुरी बातें

Latest news