कानपुर: विकास दुबे मर गया लेकिन उसकी कहानियां रह गई. विकास दुबे से जुड़ा एक और किस्सा सामने आ रहा है और वो ये कि जिस दिन उसने 8 पुलिसकर्मियों को एनकाउंटर में मारा उस दिन उसके गुर्गे ने खुद पुलिस कंट्रोल रूम में फोन कर पुलिसकर्मियों पर हमले की सूचना दी थी. यानी विकास दुबे गैंग पुलिसकर्मियों को चुनौती दे रहा था कि आओ और उनसे मुकाबला करो. ये खुलासा विकास दुबे के साथी शशिकांत ने पुलिसिया पूछताछ में किया है.
शशिकांत ने पुलिस को बताया है कि दबिश लीक करने की सूचना पूर्व बीट प्रभारी केके शर्मा ने विकास दुबे गैंग को दी थी.

शशिकांत ने पूछताछ में बताया कि जब पुलिस से मुठभेड़ शुरू हुई और कुछ लोगों को मारा गया उस दौरान विकास ने किसी दूसरे आदमी से पुलिस कंट्रोल रूम में फोन कराया कि कंट्रोल रूम में सूचना दी कि बिकरू गांव में बदमाशों ने पुलिस पर हमला कर दिया है. सूचना लीक करने के मामले में पूर्व थानेदार विनय तिवारी और बीट इंचार्ज केके शर्मा के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर उन्हें जेल भेजा जा चुका है. शशिकांत से पूछताछ में बताया कि केके शर्मा के साथ विकास के लोगों का उठना बैठना ज्यादा हो गया था

शशिकांत ये भी बता रहा है कि पुलिस के आने के बाद स्थानीय गांववालों ने पुलिस टीम को जोर जोर से गालियां देनी शुरू कर दी जिससे वो उलझ गए और हमलावरों को भागने का मौका मिल गया. शशिकांत ने एक और खुलासा किया है कि 30 जून वो विकास ने उससे कहा था कि घर में सीढ़ियां रखो ताकि भागने में आसानी हो. गौरतलब है कि विकास दुबे के शूटर शशिकांत के घर के बाहर से दो पुलिसकर्मियों के शव मिले थे. उसने ये भी बताया कि कुछ पुलिसवाले उससे हाथ जोड़कर जान की भीख मांग रहे थे कि तभी विकास ने शशिकांत को गाली देते हुए कहा कि इन्हें क्यों नहीं उड़ा रहा जिसके बाद शशिकांत ने पुलिसकर्मियों को गोली मार दी.

Coronavirus in Winter: सर्दियों में देश में और तेजी से पैर पसारेगा कोरोना, स्टडी के मुताबिक- भारत में नवंबर तक कोरोना के 1 करोड़ मामले और 5 लाख लोगों की मौत

Corona New Record in India: कोरोना ने बनाया नया रिकॉर्ड, एक दिन में कोविड-19 के 32 हजार केस, 606 लोगों की मौत

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर