उज्जैन: Vikas Dubey Arrested in Ujjain: यूपी पुलिस के 8 जवानों की हत्या के आरोपी गैंगस्टर विकास दुबे की आखिरकार गिरफ्तारी हो गई है, या यूं कहें कि विकास दुबे ने खुद ही गिरफ्तारी दे दी है. आज सुबह विकास दुबे ने उज्जैन के महाकालेश्वर मंदिर के सामने चिल्ला चिल्लाकर कहा कि मैं विकास दुबे हूं जिसके बाद वहां मौजूद स्थानीय पुलिस और सुरक्षाबलों ने उसे गिरफ्तार कर लिया.

विकास दुबे को पुलिस हिरासत में ले लिया गया है और एमपी पुलिस ने उसकी गिरफ्तारी की पुष्टि भी कर दी है. इससे पहले खबर थी कि विकास दुबे किसी टीवी चैनल के लाइव शो में आत्मसमर्पण करना चाहता था जिसको लेकर भी पुलिस सतर्क थी. इस बीच पुलिस ने विकास दुबे के एक और साथी अमर बाजपेई को गिरफ्तार करने के बाद मुटभेड़ में मार दिया. पढ़ने में थोड़ा अजीब लगेगा लेकिन यूपी पुलिस यही कह रही है कि प्रभात मिश्रा गिरफ्तारी के बाद मुटभेड़ में मारा गया. पुलिस का कहना है कि उसने भागने की कोशिश की और पुलिस पार्टी पर हमला किया जिसके बाद जवाबी फायरिंग में पुलिस की गोली से वो मारा गया.

पुलिस ने प्रभात मिश्रा के एनकाउंटर की जो कहानी बताई है वो कुछ ऐसी है कि पुलिस जब प्रभात को गिरफ्तार करके ला रही थी तो रास्ते में गाड़ी खराब हो गई, इसका प्रभात ने फायदा उठाया और पुलिसकर्मी से पिस्तौल छीन ली और भागने की कोशिश की. इसके बाद वो पुलिस फायरिंग में मारा गया. क्या ये पुलिस की मुस्तैदी पर सवाल खड़े नहीं करता? कैसे कोई अपराधी पुलिस की गन छीन लेता है. गाड़ी खटारा है सो अलग. इससे पहले खबर आई थी कि यूपी पुलिस ने विकास दुबे के एक और साथी अमर बाजपेई को भी मुठभेड़ में मार गिराया है.

Vikas Dubey case: विकास दुबे के लिए मुखबिरी के शक में चौबेपुर थाने का सस्पेंड एसओ विनय तिवारी और सब-इंस्पेक्टर के के शर्मा गिरफ्तार

Kanpur Encounter: हैरान कर देगी कानपुर मुठभेड़ की कहानी, एसएसपी की छाती में लगी गोली, आईजी की कनपटी से निकली