नई दिल्ली. भगोड़े कारोबारी विजय माल्या का किंगफिशर हाउस बिक गया है। इसे हैदराबाद के प्राइवेट डेवलपर्स सैटर्न रियल्टर्स ने 52 करोड़ रुपए में खरीदा। किंगफिशर हाउस को डेट रिकवरी ट्रिब्युनल (DRT) ने बेचा। बिक्री भाव अपने रिजर्व प्राइस 135 करोड़ रुपए का लगभग एक तिहाई है।

यह प्रॉपर्टी किंगफिशर एयरलाइन का हेड ऑफिस रह चुकी है। माल्या की एयरलाइन कंपनी अब पूरी तरह से दिवालिया घोषित हो चुकी है। किंगफिशर एयरलाइंस पर करीब SBI के नेतृत्व वाले बैंकों का 10 हजार करोड़ रुपए बकाया हैं। प्रॉपर्टी का एरिया 1,586 वर्ग मीटर है, जबकि प्लॉट 2,402 वर्ग मीटर का है। ऑफिस की बिल्डिंग में बेसमेंट, एक ग्राउंड फ्लोर, एक अपर ग्राउंड फ्लोर और एक अपर फ्लोर है।

इससे पहले कोशिश फेल हुई थी

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक किंगफिशर हाउस को बेचने के कई प्रयासों के बाद भी कर्जदाताओं को खरीदार नहीं मिल पाने के बाद ऐसा हुआ है। इसे पहले प्रॉपर्टी की नीलामी 8 बार फेल हो चुकी थी। कर्जदाताओं में सरकारी बैंकों समेत वित्तीय संस्थान भी शामिल हैं। किंगफिशर हाउस की नीलामी पहली बार मार्च 2016 में हुई थी। इसमें प्रॉपर्टी की कीमत 150 करोड़ रुपए रिजर्व रखी गई थी। लेकिन, प्रॉपर्टी की नीलामी फेल हो गई।

मालूम हो कि 26 जुलाई को ब्रिटेन की एक अदालत ने विजय माल्या को दिवालिया घोषित कर दिया। इस आदेश के साथ ही भारतीय बैंक अब माल्या की दुनियाभर की संपत्तियों को आसानी से जब्त कर सकेंगे।

Mallikarjun Kharge : सरकार विपक्ष को बोलने ही नहीं दे रही, आखिरकार हम मुद्दे कैसे उठाएं- मल्लिकार्जुन खड़गे

Manipur : मणिपुर के शाही घर को बनाया जाएगा राज्य भवन: सीएम बीरेन सिंह

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर