वाराणसी, वाराणसी में आज काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद परिसर में वीडियोग्राफी होनी है, इसके लिए अदालत ने आदेश भी जारी कर दिया था. ऐसे में, बाबा विश्वनाथ धाम कॉरिडोर के बाहर दोनों पक्षों की ओर से नारेबाजी शुरू हो गई है. दोनों पक्षों ने हर हर महादेव और अल्लाह हूं अकबर के नारे भी शुरू कर दिए हैं.

मंदिर का किया जाएगा सर्वे

बीते दिनों वाराणसी की एक अदालत ने परिसर के अंदर श्रृंगार गौरी और कई विग्रह का सर्वे करने का आदेश जारी किया था, जिसमें अदालत की तरफ से नियुक्त वकील कमिश्नर सर्वे करेंगे और देखेंगे कि मां श्रृंगार गौरी और दूसरे विग्रह तथा दूसरे देवताओं की क्या स्थिति है. इस सर्वे में किसी तरह की नाप जोख नहीं होगी, लेकिन मंदिर और विग्रह कहाँ-कहाँ है इसका सर्वे किया जाएगा.

सादी वर्दी में सुरक्षा टीम तैनात

सर्वेक्षण से पहले किसी भी तरह सुरक्षा व्यवस्था में गड़बड़ी से बचने के लिए इंटेलिजेंस ब्यूरों की टीमें सादी वर्दी में तैनात है. इसके साथ ही पैरामिलिट्री फोर्स और पीएसी के जवानों को भी स्टैंडबाई पर रखा गया है. फिलहाल एहतियात के तौर पर बड़ी संख्या में पुलिस बल को तैनात कर दिया गया है.

मस्जिद कमेटी कर रही विरोध

गौरतलब है कि इस वीडियोग्राफी और सर्वेक्षण का मस्जिद कमेटी की टीम विरोध कर रही है. अंजुमन इंतेजामिया कमेटी भी इस सर्वेक्षण के विरोध में है. दूसरी तरफ मुस्लिम पक्ष के विरोध को देखते हुए काशी के मंदिरों और मठों में हवन शुरू हो गया है. संतो का कहना है कि ज्ञानवापी परिसर की वीडियोग्राफी का विरोध करने वालों की बुद्धि शुद्ध करने के लिए हवन किया जा रहा है. वकील अजय मिश्रा ने बताया कि गुरुवार को यह तय हो गया था कि श्रृंगार गौरी और दूसरे विग्रहों, देवी-देवताओं के स्थान का सर्वे होगा.

 

केजरीवाल का नया प्लान: मुफ्त बिजली सबको नहीं, पूछेंगे विकल्प

SHARE

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर