Uttarakhand Tapowan Tuneel Rescue: उत्तराखंड के चमोली जिले में ग्लेशियर टूटने हुई भीषण तबाही से निपटने के लिए राहत और बचाव कार्य पूरी तेजी के साथ जारी है. राहत और बचाव कार्य में लगी रेस्क्यू टीम को सबसे ज्यादा दिक्कत तपोवन की टनल में आ रही है. टनल में करीब 37 लोगों के फंसे होने की आशंका है. सुरंग कीचड़ से पूरी तरह से भरी हुई है. रेस्क्यू टीम तपोवन टनल को खोलने में जुटी हुई है. उत्तराखंड में आई इस भीषण तबाही में अभी तक 29 शव बरामद किए जा चुके हैं. जबकि 171 लोगों को तलाश अभी भी जारी है.

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने बताया की तपोवन की दूसरी टनल को खोलने में रेस्क्यू टीम को सफलता नहीं मिली है. अब दूसरे रास्ते से टनल में घुसने की कोशिश की जा रही है. अभी तक 29 लोगों के शव बरामबद हो चुके हैं. बाकी लोगों को ढूंढने का काम जारी है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी आज फोन पर हालात की पूरी जानकारी ली है. मुख्यमंत्री ने बताया की डीआरडीओ के वैज्ञानिक ऋषिगंगा ग्लेशियर का सर्वे कर रहे हैं. सर्वे में यह पता लगाने की कोशिश की जा रही है कि तबाही क्यों आई.

बता दें कि आईटीबीपी, सेना, एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की एक संयुक्त टीम तपोवन टनल में दाखिल हुई है. टीम सुरंग के अंदर जलस्तर की जांच करेगी जहां से मलबा साफ किया गया है. ग्लेशियर टूटने के बाद हाइड्रो पावर प्रोजेक्ट प्रभावित हुआ था. हादसे में करीब 200 लोग आपता है. पश्चिम बंगाल के भी 5 मजदूर सुरंग के काम में शामिल थे. सेना सुरंग तक पहुंच बनाने की कोशिश में पूरी तरह जुटी हुई है.

Chamoli Glacier Blast: उत्तराखंड जल प्रलय में 202 लोग लापता, तपोवन टनल में घुसे जवान, रेस्क्यू ऑपरेशन जारी

Farmers Protest latest Update: पीएम मोदी के संबोधन के बाद राकेश टिकैत का बड़ा बयान, कहा- MSP पर कानून बना दो, हम बातचीत को तैयार

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर