Saturday, December 3, 2022

UP Election 2022: घर की बात आई बाहर, अनुप्रिया पटेल अपनी बड़ी बहन पर पल्लवी पर बरसीं

UP Election 2022

कौशांबी,  UP Election 2022 केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल ने सिराथू विधानसभा से बीजेपी के प्रत्याशी एवं सूबे के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के समर्थन में एक चुनावी जनसभा को संबोधित किया। उन्होंने लोगों से अपील की, कि वे इस बार भाजपा को विजयी बनाए और प्रदेश में एकबार फिर कमल खिलाए। इस दौरान उन्होंने अपनी बड़ी बहन और सिराथू विधानसभा से समाजवादी पार्टी की प्रत्याशी पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने मंच से कहा कि वे पिता के जाने के बाद पहली बार अपने मन की बात जनता के बीच रख रही हैं. अनुप्रिया पटेल ने कहा मेरी बड़ी बहन पल्लवी पटेल ने अपनी छोटी बहन का हक मारकर उसकी संपत्ति का अकेले मां से वसीयत करा लिया हो, 2014 में मुझे फर्जी मुकदमे में फसाकर सांसद बनने में बाधा पहुंचाने का काम किया। ऐसी महिला जो छोटी बहन की नहीं हुई उससे आप लोग कैसे उम्मीद करते हैं, वह आप लोगों का क्या भला करेगी।

अनुप्रिया पटेल ने आगे कहा कि उनके पिता सोनेलाल किसान, मजदूर, कमजोर वर्ग के लिए हमेसा आवाज बुलंद करते थे. मैं अपने पिता की विचारधारा को आगे बढ़ाकर अपने बेटी होने का फ़र्ज़ अदा कर रही हूँ, ऐसे में फैसला आपको करना है कि जो बेटी पिता के स्वाभिमान और सम्मान को आगे बड़ा रही है उसे समर्थन देना है या जो बेटी जो पिता के स्वाभिमान एवं सिद्धांतों को दूसरे पार्टी के पैर के नीचे गिरवी रखकर अपना हित देख रही है.

आज जो भी हूं पिता की परवरिश का ही नतीजा-अनुप्रिया

चुनावी जनसभा में हुंकार भरते हुए अनुप्रिया पटेल ने कहा कि नीट में पिछड़ों के 27 प्रतिशत आरक्षण की मांग को हमने ही उठाया था। इसी के साथ केंद्रीय, नावोदय और सैनिक स्कूलो में पिछड़ों को प्रवेश प्रक्रिया में मांग को भी अपना दल ने ही उठाया। उन्होंने कहा कि वह आज जो भी हैं वह पिता की परवरिश का ही नतीजा है। मैं हमेसा पिता के विचारधारा पर काम करूंगी और समाज के हित के लिए आगे रहूंगी।

बीजेपी-अपना दल सहयोगी- अनुप्रिया पटेल

अनुप्रिया पटेल ने आगे कहा कि बीजेपी ने हमेसा उनकी बात सुनी है और हर बात को गंभीरता से लिया है. जब मेरे द्वारा प्रधानमंत्री से कहां गया कि उनके पिता सोनेलाल पटेल प्रतापगढ़ में सामंतवादी व्यवस्था के विरुद्ध लड़ाई लड़ी है, इसलिए वहां जो मेडिकल कॉलेज बनने जा रहा है वह मेरे पिता सोनेलाल पटेल के नाम से बनना चाहिए। पीएम मोदी ने तुरंत इस बात को समझा और उसे मंजूरी दे दी. अनुप्रिया पटेल ने कहा कि बीजेपी और अपना दल एक हिस्सा है, और आगे भी रहेंगे। उन्होंने जनता से अपील किया जब 27 फरवरी को मतदान करना तो यह समझ कर वोट देना कि केशव प्रसाद मौर्य को नहीं अनुप्रिया पटेल को वोट दे रहे हैं।

यह भी पढ़ें:

Fodder Scam: RJD को बड़ा झटका, चारा घोटाले से जुड़े डोरंडा कोषागार मामले में लालू यादव दोषी करार

Latest news