नई दिल्ली.  Government sells CEL  भारत सरकार ने हाल ही में एयर इंडिया को टाटा ग्रुप को सौंपा था, जिसके बाद आज सोमवार को एकबार फिर भारत सरकार ने एक और सरकारी कंपनी का निजीकरण कर दिया हैं. सरकार ने सेंट्रल इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड को नंदल फाइनेंस एंड लीजिंग को 210 करोड़ रुपये में बेचने की मंजूरी दे दी है. भारत सरकार द्वारा यह दूसरी रणनीतिक हिस्सेदारी की बिक्री है. ख़बरों के मुताबिक एक ऑल्टरेनेटिव मेकेनिज्म के तहत सबसे ऊंची बोली लगाने वाली कंपनी नंदल फाइनेंस एंड लीजिंग प्राइवेट लिमिटेड को सेंट्रल इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड (CEL) में सरकारी की 100 फीसदी हिस्सेदारी बेचने को मंजूरी दी गई. आपको बता दें सीईएल एक सरकारी उपक्रम है जो डिपार्टमेंट ऑफ साइंटिफिक एंड इंडस्ट्रियल रिसर्च या DSIR के तहत आता है. नंदल फाइनेंस ने सबसे ज्यादा 210 करोड़ रुपये की बोली लगाई है, जिसके बाद सरकार ने CEL को नंदल फाइनेंस को सौपने का फैसला किया हैं.

2 कंपनियों ने लगाई थी CEL के लिए बोलियां
Government sells CEL सीएल के लिए 2 कंपनियों ने बोली लगाई थी, जिसमें नंदल फाइनेंस ने 210 करोड़ रुपये और जेपीएम इंडस्ट्रीज ने 190 करोड़ रुपये की बोली लगाई थी. वित्त मंत्रालय ने इस साल अक्टूबर महीने में बताया था कि सेंट्रल इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड में सरकार की 100 फीसदी हिस्सेदारी बेचने के लिए वित्तीय बोलियां प्राप्त हुई हैं, इसके बारे में DIPAM सेक्रेटरी तुहीन कांत पांडे ने एक ट्वीट के जरिये जानकारी दी थी.

यह भी पढ़ेः

Uttarakhand: उत्तराखंड जाने के लिए अंतर्राज्यीय सीमा पर कराना होगा RT-PCR टेस्ट

35000 Rupees Reward To Pitch Curator and Staff कोच राहुल द्रविड़ ने पिच क्यूरेटर और उनकी टीम को 35 हजार रुपए का ईनाम दिया