वॉशिंगटन. जब प्रोफेसनल्स की शादी की बात आती है तो इंजीनियर्स को सबसे ज्यादा प्राथमिकता दी जाती है और अगर बात अमेरिका में काम करने वाले इंजीनियर्स की हो तो फिर कहने ही क्या. लेकिन अब स्थिति बदलने वाली है. दरअसल अमेरिका के ट्रंप प्रशासन सरकार एच-1 बी वीजा धारकों के स्पाउस (जीवनसाथी) के लिए वर्क परमिट को खत्म करने की योजना बना रही है. अगर ट्रंप सरकार की इस योजना को अमलीजामा पहना दिया गया तो फिर भारत में आईटी प्रोफेसनल्स की हाई प्रोफाइल की शादी की तादात में गिरावट आना तय है.

ट्रम्प प्रशासन अमेरिका में एच 1-बी वीजा धारकों के पति/पत्नी को वर्क परमिट से इंकार करने की योजना बना रहा है. 2015 में तत्कालीन ओबामा सरकार एच-1 बी वीजा होल्डर्स के स्पाउस को वर्क परमिट देने का फैसला किया और आदेश जारी किए. इस फैसले से उन लोगों को लाभ पहुंचा जिनके जीवनसाथी अमेरिका में नौकरी करना चाहते थे. लेकिन अब ट्रंप प्रशासन इस नियम को खत्म करने की कवायद में जुटा है.

एच-4 वीजा, एच -1 बी वीजा धारकों के पति / पत्नी को वीज़ा जारी किये गये हैं, जिनमें से बड़ी संख्या में भारत के उच्च कुशल पेशेवर हैं. उन्होंने पिछले ओबामा प्रशासन द्वारा जारी किए गए एक विशेष आदेश के तहत वर्क परमिट प्राप्त किए थे. अंग्रेजी अखबार इकॉनोमिक्स टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार पिछले साल जुलाई में भारतीय आईटी उद्योग में नौकरियों की तंगी के कारण आईटी प्रोफेसनल्स की शादी की संभावनाओं को प्रभावित हुई थी. वैवाहिक विज्ञापन वरीयता में परिवर्तन ये साफ तौर पर दर्शाता है. रिपोर्ट में भारत की सबसे बड़ी वैवाहिक वेबसाइटों में से एक शादी डॉट कॉम के सीईओ गौरवव रक्षित का हवाला देते हुए कहा गया है कि आईटी पेशेवरों की मांग करने वाली महिलाओं का प्रतिशत 2017 की शुरुआत के बाद से गिर गया था.

उत्तर कोरियाः तानाशाह किम जोंग उन ने रोके सभी परमाणु-मिसाइल परीक्षण, डोनाल्ड ट्रंप ने कहा- गुड न्यूज

डोनाल्‍ड ट्रंप से बोले रुसी राष्ट्रपति व्‍लादिमिर पुतिन, रुस की वेश्याएं सबसे खूबसूरत होती हैं

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App