लखनऊ.उत्तर प्रदेश हिंदू समाज पार्टी के मुखिया कमेलश तिवारी की हत्या मामले में पुलिस को बड़ी लीड मिली है. मर्डर करने के बाद हत्यारे लखनऊ के एक होटल में छिपे थे. पुलिस ने होटल से खून से सना तौलिया, भगवा कपड़े और अन्य सबूत बरामद किये हैं. होटल में दिए गए पहचान पत्र के मुताबिक दोनों हत्यारों के नाम शेख अश्फाक हुसैन और पठान मोईनुद्दीन अहमद है. फिलहाल दोनों आरोपी फरार हैं. इससे पहले गुजरात एटीएस ने कमलेश तिवारी हत्याकांड में सूरत से तीन लोगों को गिरफ्तार किया था. इनका नाम मौलाना मोहसीन शेख, फैजान और खुर्शीद अहमद है. तीनों ने हत्या की बात कबूल ली है. वहीं महाराष्ट्र के नागपुर से भी एक संदिग्ध को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है.

मृतक कमलेश तिवारी के परिवार ने रविवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की. मृतक की पत्नी किरण तिवारी ने सीएम योगी से आरोपियों को फांसी की सजा दिलाने की मांग की. इससे पहले मृतक की मां ने योगी सरकार और पुलिस पर गंभीर आरोप लगाए. उन्होंने कहा कि बीजेपी वालों ने ही उनके बेटे की हत्या करवाई है. मृतक के बेटे ने भी प्रशासन की कार्यशैली पर सवाल उठाते हुए इस केस की जांच एनआईए को सौंपने की मांग की है.

शुक्रवार दोपहर को हिंदू महासाभा के पूर्व नेता कमलेश तिवारी की लखनऊ स्थित उनके कार्यालय में बेरहमी से हत्या कर दी गई थी. जिसके बाद उनकी पत्नी ने पुलिस में बिजनौर के दो मौलानाओं के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई. घटना के तुरंत बाद ही मामला पूरे देशभर की सुर्खियों में आ गया. इस मामले की जांच के लिए पुलिस एसआईटी गठित की गई है. 

यहां देखें Kamlesh Tiwari Murder Case Live Updates:

Live Blog

होटल से मिले हत्यारों के सबूत

लखनऊ पुलिस को दो संदिग्ध शेख अश्फाक हुसैन और पठान मोईनुद्दीन अहमद के बारे में इनपुट मिला है कि ये होटल खालसा में रह रहे थे. होटल कर्मचारी ने मीडिया में जारी हुए सीसीटीवी फुटेज के आधार पर संदिग्धता जताई और आईडी चेक कर पुलिस को सूचना दी. पुलिस ने होटल में तलाशी ली, जहां से खून से सना हुआ तौलिया और भगवा कपड़े बरामद हुए हैं. 

महाराष्ट्र ATS ने नागपुर में की छापेमारी, एक व्यक्ति हिरासत में लिया

महाराष्ट्र आतंकवाद निरोधी दस्ते (ATS) ने कमलेश तिवारी हत्याकांड में नागपुर में छापेमारी की. एटीएस ने नागपुर से एक व्यक्ति को हिरासत में लिया. व्यक्ति से पूछताछ की जा रही है.

मृतक कमलेश तिवारी के परिवार से मिलेंगे सीएम योगी

उत्तर प्रदेश के मु्ख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कल यानी रविवार को मृतक कमलेश तिवारी के परिवार से मिलने पहुंचेंगे.

कमलेश तिवारी को पर्याप्त सुरक्षा नहीं दी गई, हत्यारों को मिले फांसी - पत्नी

मृतक कमलेश तिवारी की पत्नी किरण ने इंडिया न्यूज से बातचीत में उनके पति की हत्या मामले में प्रशासन पर सवाल उठाए हैं. उन्होंने बताया कि कमलेश को आए दिन धमकियां मिलती थीं, उन्हें व्हाट्सएप पर धमकी भरे मैसेज आते थे. फिर भी पर्याप्त सुरक्षा नहीं मिली. सुरक्षाकर्मियों ने हत्यारों की चेकिंग नहीं की. हत्यारों को उन्होंने चाय-नाश्ता कराया. शासन-प्रशासन सबको पता था. किरण का कहना है कि उनके पति के हत्यारों को फांसी की सजा दिलाई जाए.

कमलेश तिवारी के बेटे ने कहा हमें किसी पर भरोसा नहीं, NIA करे जांच

मृतक कमलेश तिवारी के बेटे सत्यम तिवारी ने मीडिया के सामने बड़ा बयान दिया है. सत्यम ने अपने पिता के मर्डर केस की जांच नेशनल इनवेस्टिगेशन एजेंसी, एनआईए को सौंपने की मांग की है. सत्यम का कहना है कि उन्हें किसी पर भी भरोसा नहीं है. उनके पिता के साथ सेक्योरिटी गार्ड थे तो भी उनकी हत्या हो गई, ऐसे में वे प्रशासन पर कैसे विश्वास कर सकते हैं?

भय और डर का माहौल पैदा करने वालों को नहीं बख्शेंगे - CM योगी आदित्यनाथ

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बताया कि स्पेशल इनवेस्टिगेशन टीम कमलेश तिवारी मर्डर केस की जांच कर रही है. हत्यारों को पकड़ने के लिए दबिश दी जा रही है. इस प्रकार की किसी भी वारदात को स्वीकार नहीं किया जाएगा. जो भी आरोपी हैं उन्हें बिल्कुल भी बख्शा नहीं जाएगा. जो लोग भय और डर का माहौल पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं उन्हें छोड़ा नहीं जाएगा. सीएम आज शाम को फिर से इस जांच पर रिपोर्ट मांगेंगे.

कमलेश तिवारी के बेटे को सरकार देगी लाइसेंस बंदूक

लखनऊ डिविजनल कमिश्नर ने कहा कि कमलेश तिवारी के परिवार की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए मृतक के बड़े बेटे को सेल्फ डिफेंस हेतु एक लाइसेंस हथियार दिया जाएगा. उसे नौकरी भी दिलाने की कवायद की जा रही है. साथ ही परिवार को जरूरी आर्थिक मदद मुहैया करवाई जाएगी. एक कमिटी इस बारे में जांच कर रही है.

कमलेश तिवारी के परिवार को मिलेगी सुरक्षा और सरकारी आवास

लखनऊ डिविजनल कमिश्नर मुकेश मेश्रम ने मृतक कमलेश तिवारी के परिवार से मुलाकात की. उन्होंने कहा कि मृतक के परिवार की सभी मांगों को ध्यान में रखकर उन्हें सुरक्षा प्रदान की जाएगी. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से उनकी बैठक कराई जा रही है. साथ ही हम उन्हें सरकारी आवास देने पर भी विचार कर रहे हैं.

कमलेश तिवारी की मां ने लगाए पुलिस पर आरोप

कमलेश तिवारी की मां ने पुलिस पर आरोप लगाए हैं कि उन्हें पुलिस से किसी तरह का सहयोग नहीं मिल रहा है. उन्होंने कहा कि पुलिस ने उन्हें सुरक्षा नहीं दी और पुलिस मामले में सहयोग नहीं कर रही हैं. वहीं कमलेश तिवारी की पत्नी ने धमकी दी थी कि वो आत्मदाह कर लेगी. परिवार ने भी कहा था कि जब तक उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ नहीं आते तब तक कमलेश का अंतिम संस्कार नहीं किया जाएगा.

उत्तर प्रदेश एटीएस के डीआईजी हिमांशु शुक्ला ने कहा- कमलेश तिवारी मर्डर केस में पकड़े गए तीनों आरोपियों ने अपना गुनाह कबूल लिया है

उत्तर प्रदेश एटीएस के डीआईजी हिमांशु शुक्ला ने कहा- कमलेश तिवारी मर्डर केस में पकड़े गए तीनों आरोपियों ने अपना गुनाह कबूल लिया है

Kamlesh Tiwari Murder Case UP DGP Full Press Conference

यहां क्लिक कर देखें यूपी डीजीपी ओपी सिंह ने कमलेश तिवारी मर्डर केस पर क्या अपडेट दिया

कमलेश तिवारी की हत्या का आतंकी संगठन से लिंक नहीं- UP DGP

उत्तर प्रदेश के डीजीपी ओपी सिंह ने बताया कि आरोपी गुजरात में रहते हैं लेकिन उनका यूपी से भी संबंध है. हालांकि उन्होंने इसका आतंकी संगठन से लिंक होने से इनकार कर दिया है. प्रारंभिक तौर पर माना जा रहा है कि 2015 में कमलेश तिवारी ने पैगंबर मोहम्मद के खिलाफ भड़काऊ भाषण दिया था उसी कारण उनकी हत्या की गई.

सूरत में अन्य दो संदिग्धों पर भी नजर- DGP ओपी सिंह

उत्तर प्रदेश डीजीपी ने बताया कि कमलेश तिवारी मर्डर केस में सूरत से गौरव तिवारी और राशिद के भाई को हिरासत में लेकर पूछताछ कर छोड़ दिया है. गौरव तिवारी ने सूरत से कमलेश तिवारी को फोन कर हिंदू समाज पार्टी से जुड़ने की इच्छा जताई थी. इन दोनों लोगों पर भी पुलिस नजर बनाए हुई है.

2015 में दिए गए भड़काऊ भाषण की वजह से हुई कमलेश तिवारी की हत्या - UP DGP

बिजनौर के दो मौलानाओं से भी हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है. गुजरात, लखनऊ और बिजनौर तीनों जगहों पर मिले सबूतों का विश्वलेषण किया जा रहा है. प्रारंभिक जानकारी के मुताबिक हिरासत में लिया गया आरोपी रशीद पठान जो दर्जी का काम करता है और कंप्यूटर एक्सपर्ट भी है, उसने साजिश रची थी. उसे मौलाना मोहसीन शेख सलीम ने भड़काया. इसके तार 2015 में मौलाना ने कमलेश तिवारी को मारने की धमकी दी थी. एक अन्य आरोपी फैजान ने हत्या से पहले मिठाई खरीदने का काम किया, उसका सीसीटीवी फुटेज भी है. वहीं एक अन्य आरोपी मोहसीन साड़ी की दूकान पर काम करता है.

कमलेश तिवारी की हत्या में 5 लोगों का हाथ, तीन हिरासत में दो की तलाश जारी- UP DGP

UP DGP बोले- कमलेश तिवारी मर्डर केस में तीन आरोपी हिरासत में लिए गए हैं. इन तीनों के अलावा अन्य संदिग्धों को भी हिरासत में लिया गया और पूछताछ के बाद छोड़ दिया. प्रारंभिक विवेचना से स्पष्ट हो गया है कि तीनों व्यक्ति जो हिरासत में लिए गए हैं उनका कमलेश तिवारी मर्डर केस में हाथ है. इसके अलावा हत्या करने वाले दो अभियुक्त के बारे में जानकारी इकट्ठा कर रही है. जल्द ही उन्हें गिरफ्तार किया जाएगा.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App