उत्तर प्रदेश. उत्तर प्रदेश में चुनावी ( UP Elections 2022  ) बिगुल बज गया है, हर पार्टी ने यूपी चुनाव के लिए अपनी ताकत झोंक दी है. अभी से ही उत्तर प्रदेश चुनाव की तैयारी ज़ोरों पर हैं. चुनावी माहौल में विपक्ष की एकजुटता भी दिखाई दे रही है. मौजूदा समय में उत्तर प्रदेश की सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी को हराना ही विपक्ष के लिए चुनौती बन गई है. इसी क्रम में आज सुभासपा और समाजवादी पार्टी का गठबंधन हुआ है. गठबंधन के बाद पार्टियों ने “अबकी बार, बीजेपी साफ़” का नारा दिया है.

सपा और सुभासपा आए साथ

आगामी वर्ष में उत्तर प्रदेश में चुनाव होने वाले हैं, जिसका असर अभी से ही देखने को मिल रहा है. यूपी में चुनावी सहगमियाँ देखने को मिल रही हैं. पार्टियों ने अभी से लुभावने वादे करने शुरू कर दिए हैं. इसी क्रम में सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर ने बुधवार को सपा राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव से शिष्टाचार मुलाकात के बाद गठबंधन को लेकर स्थिति को साफ कर दिया.

अखिलेश यादव से बातचीत के दौरान ओपी राजभर ने भाजपा पर जमकर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि ‘दलितों, पिछड़ों और अल्पसंख्यकों के साथ सभी वर्गों को धोखा देने वाली भाजपा सरकार के केवल चार दिन बचे हैं. अबकी बार उत्तर प्रदेश से भाजपा साफ़ होक रहेगी.’

सुभासपा व सपा के वादे

समाजवादी पार्टी और सुभासपा के गठबंधन के दौरान, दोनों पार्टियों ने कुछ वादें भी किए हैं. उनका कहना है कि “सुभासपा ने हमेशा सामाजिक न्याय की बात कही है, चाहे फिर वह आबादी व आर्थिक आधार पर आरक्षण, सामाजिक न्याय समिति की रिपोर्ट लागू करना, प्राथमिक विद्यालय में तकनीकी शिक्षा, घरेलू बिजली बिल माफ, महिलाओं को 50 फ़ीसदी आरक्षण, गरीबों को मुफ्त इलाज, कुटीर एवं लघु उद्योग से बेरोजगारों को रोजगार, प्राथमिक वद्यिालय से स्नातकोत्तर तक निशुल्क शिक्षा, बिना भेदभाव के नौकरी, सामाजिक न्याय समिति की रिपोर्ट लागू कराना, निशुल्क स्वास्थ्य-शक्षिा और बिजली आदि, उत्तर प्रदेश में हमारी सरकार बनने के बाद हम यह सारे काम करेंगे.”

यह भी पढ़ें :

WHO on India’s Vaccination : WHO ने की भारत के कोरोना टीकाकरण की सराहना

If You Are Planning to Travel, Then Go To These Places घूमने का बन रहा है प्लान तो जाएं इन जगहों पर