बुलंदशहर: दुनियाभर के मुसलमानों के सबसे बड़े आयोजन इज्तिमा का आयोजन इस बार यूपी के बुलंदशहर में किया जा रहा है. 1,2 और 3 दिसंबर को होने वाले इस कार्यक्रम के लिए दुनियाभर से दस लाख से ज्यादा मुसलमान बुलंदशहर पहुंच चुके हैं. हालांकि इसकी तैयारियां महीनों पहले से चल रही थी. खास बात ये है कि इस आयोजन में किसी मजदूर को नहीं लगाया गया है बल्कि स्थानीय मुसलमानों ने इसकी तैयारियां की है. सिर्फ मुसलमान ही नहीं बल्कि हिंदू और बाकी धर्मों के लोगों ने भी इस आयोजन को सफल बनाने के लिए मेहनत की है.

आलिमी तब्लिगी इज्तेमा का मतलब होता है विश्वस्तरीय धार्मिक सम्मेलन यानी इस्लाम धर्म को मानने वालों को उपदेश दिया जाता है. यानी इस्लामिक उपदेशक इस दौरान दुनियाभर के मुसलमानों को कुरान में लिखी बातें बताते हैं और फिर आखिरी दिन दुआ होती है जिसमें अल्लाह से दुनियाभर के लोगों के लिए प्रार्थना की जाती है. कहा जाता है कि दुआ में शामिल होने के लिए लाखों लोग डटे रहते हैं और इस दौरान कोशिश करते हैं कि दुआ उनके कानों तक पहुंचे.

जानकारी के मुताबिक इज्तिमा में मौलाना साद आ रहे हैं जो इस्लाम के बड़े जानकार के तौर पर दुनियाभर में जाने जाते हैं. इनके अलावा पाकिस्तान से मौलाना तारिक जमील के आने की उम्मीद है. तारिक जमील को भी इस्लामिक जानकार के तौर पर जाना जाता है. इनकी तकरीरें सुनने के लिए लाखों की तादात में मुसलमान दुनियाभर से बुलंदशहर पहुंच रहे हैं. बुलंदशहर जाने वाले लोगों को कोई तकलीफ ना हो इसके लिए रूट में भी बदलाव किए गए हैं साथ ही कई लोगों ने अपनी-अपनी गाड़ियों की मुफ्त सेवाएं भी बस स्टैंड और रेलवे स्टेशनों के बाहर लगा रखी हैं. 

UP Bulandshahr Ijtema: जानें यूपी के बुलंदशहर में कब, कहां और क्यों जमा होंगे लाखों मुसलमान

UP Bulandshahar Almi Tablighi Ijtema: तब्लीगी इज्तमा के चलते बुलंदशहर, दिल्ली, गाजियाबाद अलीगढ़ और नोएडा के रूट में अलगे तीन दिन ये होगा बदलाव

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App