नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज समुद्री सुरक्षा पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की एक महत्वपूर्ण बैठक में अगुवाई की। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पहले ऐसे भारतीय पीएम हैं जिन्होंने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में किसी खुली बहस की अध्यक्षता की। उन्होंने कहा कि पाइरेसी और आतंकवाद के लिए समुद्री रास्तों के गलत इस्तेमाल हो रहा है। जानें उनके भाषण की 10 प्रमुख बातें-

1. समुद्र हमारी साझा धरोहर है। एक दूसरे के नाविकों का सम्मान करना होगा।

2. भारत ने SAGAR का विजन परिभाषित किया है। हमने 5 सिद्धांतों पर काम किया। जिसके आधार पर समुद्री फ्रेमवर्क बना सकते हैं।

3. अंतरराष्ट्रीय समुद्री व्यापार से व्यवधान हटाने होंगे। हमारे समुद्री रास्ते व्यापार के लिए लाइफलाइन है।
4. प्राकृतिक आपदा का मिलकर सामना करना होगा।
5. समुद्री सुरक्षा और पायरेसी रोकने के लिए भारतीय सेना 2008 से पेट्रोलिंग कर रही हैं।
6.भारत ने कई देशों को समुद्री प्रशिक्षण दिया है।
7. भारत ने बांग्लादेश के साथ समुद्री सीमा को सुलझाया है।
8. हमने डीप ओशन मिशन शुरू किया है।
9. हमें समुद्री संसाधनों और समुद्री पर्यावरण को संजोकर रखना होगा।
10. साझा सामूहिक धरोहर के लिए आपसी सहयोग बनाकर रखना होगा।

व्यापक बहस के लिए एजेंडा

यूएन की सबसे ताकतवर संस्था यानी सुरक्षा परिषद में यूं तो कई बार समुद्री सुरक्षा को लेकर प्रस्ताव पारित किए गए हैं। मगर यह पहला मौका होगा जब समेकित तौर पर इस विषय को व्यापक बहस के लिए एजेंडा में रखा गया हो।

Pegasus Spyware: पेगासस पर सरकार ने सदन में कहा- साफ्टवेयर बनाने वाले इनएसओ ग्रुप से हमारा कोई लेना-देना नहीं

Indian Olympic Star: टोक्यो से भारत आए खिलाड़ियों का जोरदार स्वागत, सेल्फी लेने के लिए मची होड़

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर