Thursday, December 1, 2022

उदयपुर हत्याकांड में आया कानपुर कनेक्शन, SIT को सौंपी जांच

लखनऊ, राजस्थान के उदयपुर में टेलर कन्हैया लाल साहू के हत्या मामले में शुरू हुई जांच ने अब कानपुर का रुख कर लिया है. पुलिस ने कानपुर में बने दावते-ए-इस्लामी के दफ्तर समेत संगठन से जुड़े लोगों की जांच कर रही है.

इस जांच के लिए छह सदस्यीय विशेष टीम गठित की गई है. टीम का नेतृत्व एक आईपीएस अफसर को सौंपा गया है. दरअसल, ये जांच टीम राजस्थान के पुलिस महानिदेशक एमएल लाठर के उस बयान के बाद बनी है, जिसमें उन्होंने कहा था कि दावत-ए-इस्लामी कानपुर में भी सक्रिय है. उदयपुर कांड में पकड़े गए कट्टरपंथी इसी संगठन से जुड़े बताए जा रहे हैं.

पुलिस रिपोर्ट्स के मुताबिक राजस्थान पुलिस को ऐसे इनपुट मिले हैं कि इस संगठन के कुछ लोगों ने कानपुर में भी स्लीपिंग मॉडल तैयार किए हैं, इनमें ऐसे लोग हैं जिनका कोई आपराधिक इतिहास नहीं है, उनका ब्रेन वॉश कर उन्हें कट्टर सोच विचार का अभ्यस्त बना दिया गया है.

कर्फ्यू में ढील

राजस्थान के उदयपुर में 28 जून की दोपहर को कन्हैयालाल के बर्बर हत्याकांड के बाद लगी पाबंदियों में अब ढील दी जा रही है, इसके बाद सुबह से ही लोगों की आवाजाही शुरू हो गई है, यहाँ छूट देने के पीछे का कारण है कि 1 जुलाई को शहर में निकली रथ यात्रा शांतिपूर्ण रही जिसमें किसी प्रकार की कोई अनहोनी नहीं हुई.

12-4 तक ढील

शांतिपूर्ण रथयात्रा के बाद जिला कलेक्टर ताराचंद मीणा ने आदेश जारी कर दोपहर 12-4 के बीच कर्फ्यू में ढील देने को कहा है, इस आदेश के बाद ही 4 दिन से पाबंदियां झेल रहे लोगों को राहत मिली और लोगों ने सुबह से ही आवाजाही शुरू कर दी.

 

महाराष्ट्र: पूछताछ के लिए ईडी कार्यालय पहुंचे संजय राउत, कहा- जिंदगी में कभी गलत काम नहीं किया

Latest news