नई दिल्ली: रफेल डील को राजनीति जोरों पर है. कांग्रेस लगातार राफेल डील को बड़ा रक्षा घोटाला बताकर बीजेपी को कटघरे में खड़ा कर रही है वहीं दूसरी तरफ बीजेपी कांग्रेस के आरोपों सिरे से खारिज कर रही है. राफेल डील को लेकर वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि अरुण जेटली ने कहा कि राहुल गांधी को राफेल को लेकर कोई समझ नहीं है. पता नहीं उन्हें इसकी कब समझ होगी.

उन्होंने राफेल सौदे को लेकर लगाए जा रहे आरोपों को किंडरगार्टन या प्राइमरी स्कूल के बच्चों जैसी बहस करार दिया देते हुए कहा कि मैं 500-कुछ दे रहा था, आपने 1600-कुछ दिए हैं.. यह तर्क दिया जा रहा है. यह दिखाता है कि राहुल गांधी को कितनी कम समझ है.

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने वित्त मंत्री अरुण जेटली के जवाब पर ट्वीट करते हुए कहा कि ‘मिस्टर जेटली, आपका धन्यवाद कि आपने देश का ध्यान फिर एक बार महान राफेल लूट की तरफ मोड़ा. संयुक्त संसदीय समीति से इसकी जांच कराने पर आपका क्या विचार है? समस्या ये है कि आपके सबसे बड़े नेता अपने दोस्तों को बचा रहे हैं, इसलिए ये थोड़ा असहज हो सकता है लेकिन फिर भी आप देखिए और हमें चौबीस घंटें के अंदर हमें जवाब दीजिए , हम इंतजार कर रहे हैं.

राहुल गांधी के ट्वीट के सवाल पर वित्त मंत्री अरुण जेटली ने भी उन्हें ट्वीट कर जवाब दिया. उन्होंने लिखा ‘मिस्टर गांधी, आपने रफेल की खरीद पर राष्ट्रीय हित को ध्यान में रखते हुए मेरे सवालों का जवाब देने की कोशिश नहीं की. जब को जवाब नहीं दिया जाता तो ये सामान्य सी बात है कि उन्हें भी कोई जवाब नहीं दिया जाएगा जो सिर्फ झूठ फैला रहे हैं.’

एक और ट्वीट में अरुण जेटली ने लिखा कि ‘सच हमेशा साथ रहता है जबकि झूठ अलग-थलग पड़ जाता है. रफेल सौदे पर आपके झूठ का भी यही अंजाम होगा.’ आगे उन्होंने कहा कि ‘मैं आपको 1987 में आपकी सरकार में बोफोर्स सौदे को लेकर मिस्टर शंकरानंद की अध्यक्षता में बनी संयुक्त संसदीय समिति के बारे में याद दिला दूं जिसकी रिपोर्ट को पूरी दुनिया ने झुठला दिया था. संयुक्त संसदीय समिति आपके झूठ को कैसे सही ठहराएगी?’

पढ़ें-  राफेल डील पर कांग्रेस के 50 नेता एक महीने तक 100 शहरों में करेंगे प्रेस कॉन्फ्रेंस, पी चिदंबरम ने कोलकाता से की शुरूआत

राफेल डील को लेकर कांग्रेस पर अरुण जेटली का पलटवार, कहा- झूठ बोल रहे राहुल गांधी, 9 फीसदी सस्ते मिले एयरक्राफ्ट

 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App