नई दिल्ली. मॉनसून सत्र में तीन तलाक बिल पर राज्यसभा में सहमति नहीं बन पाई. इस कारण सत्र के आखिरी दिन इसे टाल दिया गया है. राज्यसभा के सभापति वेंकैया नायडू ने शुक्रवार को कहा कि बिल पर सदन में एकता नहीं है इसलिए इसे आज सदन में नहीं रखा जाएगा. इसके बाद सरकार के पास इस पर अध्यादेश लाने का विकल्प है लेकिन माना जा रहा है कि अब इसे शीतकालीन सत्र में पेश किया जाएगा. राजनीतिक विश्लेषकों का कहना है कि इस बिल पर राज्यसभा में सहमति नहीं बन पाने के कारण अब बीजेपी के पास कांग्रेस को घेरने का मौका मिल गया है. 

केंद्रीय कैबिनेट ने गुरूवार को ही बिल में संशोधनों को मंजूरी दी थी. सत्र के आखिरी दिन कांग्रेस के हंगामे के चलते राज्यसभा की कार्यवाही दो बार स्थगित करनी पड़ी. इससे पहले यूपीए की चेयरपर्सन सोनिया गांधी ने कहा कि तीन तलाक बिल पर कांग्रेस का रुख एकदम स्पष्ट है, लेकिन अभी में कुछ नहीं कहना चाहुंगी. विपक्ष का आरोप है कि केंद्र ने इसके संशोधनों के बारे में सलाह मशविरा नहीं किया है.

कांग्रेस सहित अन्य विपक्षी दलों के सदस्यों ने राफेल विमान सौदे में कथित अनियमितता का आरोप लगाकर केंद्र सरकार से जवाब देने की मांग की. इस दौरान कांग्रेस सदस्यों ने इस मामले में संयुक्त संसदीय समिति के गठन की भी मांग की. इस मुद्दे पर कांग्रेस सदस्य नारेबाजी करते हुए आसन के समीप आ गए. इसके साथ ही शून्यकाल के दौरान कांग्रेस सदस्यों ने सदन से वॉकआउट भी किया.

हंगामा चलते देख राज्यसभा के सभापति वेंकैया नायडू ने कहा कि तीन तलाक बिल पर सहमति नहीं बन पाई है, इसलिए इसे आज सदन में नहीं रखा जा सकेगा. इसके बाद से माना जा रहा है कि शीतकालीन सत्र से पहले केंद्र सरकार इसपर अध्यादेश ला सकती है. 

संशोधन ट्रिपल तलाक बिल पर बोले कांग्रेस सांसद हुसैन दलवई- शक के कारण भगवान राम ने भी सीता को छोड़ दिया था

राफेल डील पर मोदी सरकार के खिलाफ सोनिया गांधी समेत विपक्षी सांसदों का हल्ला बोल, JPC जांच की मांग

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App