नई दिल्ली: देश में कोरोना संक्रमण के चलते जारी देशव्यापी लॉकडाउन के बीच भारतीय रेलवे ने 12 मई से चरणबद्ध तरीके से यात्री ट्रेन सेवाएं शुरू करने का फैसला किया है. पहले चरण में 15 जोड़ी ट्रेन चलाई जा रही है यानी अप एंड डाउन मिलाकर कुल 30 ट्रेनें चलाई जा रही है. रेलवे ने कहा है कि जो जिन यात्रियों की टिकट बुक हो चाती है उन्हें स्टेशन पर कम से कम एक घंटे पहले पहुंचना होगा.

स्टेशन पर यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग की जाएगी, साथ ही साथ सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए यात्रियों को ट्रेन में बैठने दिया जाएगा. रेलवे ने कहा है कि 12 मई से शुरू हो रही ट्रेनों में सिर्फ एसी कोच होंगे, जनरल डिब्बे नहीं, ताकि कम से कम लोग जा पायें और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन हो सके. दस प्वाइंट में जान लीजिए कि आप इन ट्रेनों में किस प्रकार सफर कर सकते हैं.

1- भारतीय रेल ने कहा कि शुरुआत में सभी 15 राजधानी ट्रेनों के मार्गों पर वातानुकुलित सेवाएं शुरु होंगी और उनका किराया सुपर-फास्ट ट्रेनों के समान होगा. यानी ट्रेन राजधानी होगी लेकिन किराया सुपर-फास्ट का होगा जिसमें खाना और पानी दोनों मिलेगा.

2- इन टिकटों पर नियम और शर्तें पहले से ही स्पष्ट तौर पर लिखी होंगी जैसे स्टेशन पहुंचने से लेकर ट्रेन में चढ़ने और उतरने तक आपको क्या क्या करना है. जैसे- कम से कम एक घंटा पहले रेलवे स्टेशन पहुंचना, प्रस्थान बिंदु पर मेडिकल जांच, कोरोना वायरस संक्रमण से जुड़े अन्य प्रोटोकॉल, मास्क का अनिवार्य रूप से उपयोग तथा आरोग्य सेतु ऐप डाउनलोड करना ट्रेन में चढ़ने से पहले के अनिवार्य नियम होंगे जिसका हर यात्री को पालन करना होगा.

3- रेलवे अधिकारियों के मुताबिक केवल वैध आरक्षित टिकट धारकों को ही रेलवे स्टेशन में प्रवेश की अनुमति होगी. इसके अलावा पूरे रास्ते यात्रियों को मास्क लगाना अनिवार्य होगा. ट्रेन पर चढ़ने से पहले यात्रियों के स्वास्थ्य की जांच अनिवार्य होगी, सिर्फ उन्हीं लोगों को ट्रेन में चढ़ने की अनुमति होगी जिनमें वायरस से संक्रमण के कोई लक्षण नहीं होंगे. रेलवे अधिकारियों के मुताबिक यात्रा के दौरान ट्रेन बेहद कम स्टेशनों पर रुकेगी.

4- रेलवे अधिकारियों के मुताबिक कोरोना संक्रमण को ट्रेन में फैलने से रोकने के लिए यात्रा के दौरान यात्रियों को मिलने वाला कंबल, चादर और तौलिया नहीं दिया जाएगा. इसके अलावा इन ट्रेनों में वातानुकूलन के लिए विशेष नियम होंगे यानी तापमान सामान्य दिनों के मुकाबले थोड़ा ज्यादा रखा जाएगा और ये सुनिश्चित किया जाएगा कि डिब्बों के भीतर ज्यादा से ज्यादा ताजा हवा आ सके.

5. इन ट्रेनों में एक कोच के सभी 72 सीटों पर बुकिंग होगी और इनके किराए में किसी भी प्रकार की छूट की भी नहीं होगी. गौरतलब है कि रेलवे ने सबसे पहले जिन श्रमिक स्पेशल ट्रेनों को चलाया था उनमें एक डिब्बे में अधिकतम 54 यात्रियों को यात्रा करने की अनुमति दी गई थी.

6- ये विशेष ट्रेनें नयी दिल्ली रेलवे स्टेशन से चलेंगी और डिब्रूगढ़, अगरतला, हावड़ा, पटना, बिलासपुर, रांची, भुवनेश्वर, सिकंदराबाद, बेंगलुरु, चेन्नई, तिरुवनंतपुरम, मडगांव, मुंबई सेंट्रल, अहमदाबाद और जम्मू-तवी को जाएंगी और फिर अपने गंतव्य से वापस दिल्ली आएंगी.

7- इन ट्रेनों में टिकट आरक्षण के लिए बुकिंग 11 मई शाम चार बजे से शुरू होगी और बुकिंग सिर्फ आईआरसीटीसी की वेबसाइट के जरिए की जा सकेगी.

8- भारतीय रेल का कहना है कि इन 15 जोड़ी ट्रेनों के बाद वह अन्य मार्गों पर भी विशेष ट्रेनें चलाई जाएंगी. रेलवे के मुताबिक 20,000 डिब्बे कोविड-19 देखभाल केन्द्र के रूप में आरक्षित करने और प्रवासी श्रमिकों के लिए रोजाना करीब 300 ‘श्रमिक स्पेशल ट्रेनें चलाने के लिए डिब्बे आरक्षित रखने के बाद कोचों की उपलब्धता के आधार पर अन्य मार्गों पर यात्री सेवाएं बहाल की जाएंगी.

9- भारतीय रेल ने कहा कि स्टेशनों पर टिकट बुकिंग की खिड़की बंद रहेगी, प्लेटफॉर्म टिकट सहित कोई काउंटर टिकट जारी नहीं होगा. रेलवे अधिकारियों का कहना है कि 17 मई को लॉकडाउन खत्म होने के बाद चरणबद्ध तरीके से ट्रेन परिचालन शुरू किया जाएगा.

10- कोविड-19 राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के कारण 25 मार्च से ही सभी यात्री ट्रेन सेवाएं बंद हैं लेकिन हाल ही में रेलवे ने प्रवासी मजदूरों, छात्रों और पर्यटकों को निकालने के लिए ट्रेन चलाने का फैसला किया था.

Corona Latest Update: लॉकडाउन के बावजूद देश में बिगड़ रहे कोरोना से हालात, 24 घंटे में 4 हजार से ज्यादा केस, 97 की मौत

7th Pay Commission: 7th के तहत कर्नाटक के कर्मचारियों के बढ़े हुए डीए पर लगी रोक, केंद्र समेत इन राज्यों में भी अटका महंगाई भत्ता

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App