नई दिल्ली. एक सितंबर को देशभर में नया मोटर व्हीकल एक्ट लागू कर दिया गया. कई राज्यों ने इस एक्ट को पूरे जोर शोर के साथ लागू कर दिया गया. इस मोटर एक्ट के जरिए उन लोगों पर नकेल कसी गई जो परिवहन नियमों को ताक पर रख देते हैं. नया मोटर व्हीकल एक्ट लागू करने के बाद अगर बिहार की बात की जाए तो यहां पर ये नियम अभी तक कारगर नहीं हुआ. न्यूज 18 की खबर के मुताबिक बिहार के मुख्यमंत्री जिस गाड़ी से चलते हैं तो उसका ड्राइवर खुद सीट बेल्ट नहीं लगाता.

नियमों के मुताबिक जिस गाड़ी में सीएम नीतीश कुमार सवार थे उसके द्वारा नियमों का उल्लंघन किया जा रहा था. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के ड्राइवर को जरा भी भय नहीं था कि वह बगैर सीट बेल्ट लगाए गाड़ी चला रहा है. अगर नियमों को माना जाए तो खुद सीएम नीतीश कुमार खुद नये नियम की धज्जियां उड़ा रहे हैं.

राजधानी पटना की सड़कों की बात की जाए तो यहां पर ट्रैफिक नियम सिर्फ आम लोगों के लिए हैं. रसूखदार और राजनीति में पहुंच रखने वाले या यूं कहा जाए की खास लोगों से लेकर अधिकारी तक नया मोटर एक्ट को ताक पर रखकर घूम रहे हैं. उन्हें इस बात की परवाह नहीं है कि उनका चालान कर दिया जाएगा. इससे पता चलता है कि बिहार में परिवहन नियमों को सम्भ्रांत वर्ग द्वारा कोई तवज्जो नहीं दी जी रही है.

बिहार पुलिस भी नए नियमों को ताक पर रख दिया है. वह चाहे दुपहिया वाहन से चलें या फिर जिप्सी से पुलिस वाले भी सीट बेल्ट का इस्तेमाल नहीं कर रहे हैं. वे ट्रैफिक नियमों के बिल्कुल नहीं मानते. ऐसे में ये कहा जा सकता है कि जिनके ऊपर नियम कानून पालन करने और करवाने की जिम्मेदारी है वही वाहन एक्ट को तार- तार कर रहे हैं.

एक सितंबर से इस नियम के लागू होने के बाद देश के कई शहरों में ट्रैफिक पुलिस ने नया मोटर व्हीकल एक्ट का पालन न करने पर चालान किए हैं. इनमें उन लोगों को भी नहीं बख्शा गया जिनके पास सिर्फ मामूली कमी मिली. ऐसे कई उदाहरण है कि पुलिस ने इस दौरान ऐसे कई चालान काटे में गाड़ी की कीमत से कई गुना ज्यादा जुर्माना लगया गया.

POK Demands Freedom: पीओके में आजादी के नारे लगा रहे 22 प्रदर्शनकारी गिरफ्तार, नरेंद्र मोदी सरकार की दो टूक- पीओके में चीन और पाकिस्तान की दखलअंदाजी बर्दाश्त नहीं

Amit Shah on NRC Illegal Immigrants: गृह मंत्री अमित शाह का दावा- एनआरसी में अवैध प्रवासियों को जगह ना देने के लिए किए जाएंगे उचित उपाय

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App