नई दिल्ली. कोरोना महामारी के संकट काल में फ्लू की बीमारी(Flu Attack in Winters) धीमी हो गई थी। लेकिन अब वैज्ञानिकों ने चेतावनी दी है कि इस साल सर्दी में फ्लू बहुत भारी हो सकता है। अब दो नए अध्ययन सामने आए हैं जिसमें दावा किया गया है कि इस साल सर्दी और पतझड़ के मौसम में फ्लू तेजी से फैल सकता है। एक अध्ययन में दावा किया गया है कि 2021-22 फ़्लू सीज़न के दौरान दुनिया भर में 1 से 4 मिलियन लोग फ़्लू के कारण अस्पतालों में भर्ती हो सकते हैं।

इस अध्ययन के परिणाम प्री-प्रिंट डेटाबेस  मेड्रिक्सिव पर प्रिंट किए गए हैं। हालांकि, अध्ययन की अभी तक सहकर्मी-समीक्षा नहीं की गई है। लेकिन अध्ययन इस बात पर जोर देता है कि इस साल फ्लू के टीके की जरूरत अधिक हो सकती है। दोनों अध्ययनों से स्पष्ट रूप से पता चला है कि यदि फ्लू के टीके का 20 से 40 प्रतिशत प्रबंधन किया जाए तो फ्लू के मामलों को कम किया जा सकता है। यूनिवर्सिटी ऑफ पिट्सबर्ग ग्रेजुएट स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ में पब्लिक हेल्थ डायनेमिक्स लेबोरेटरी के निदेशक और दोनों अध्ययनों के प्रमुख लेखक डॉ। मार्क रॉबर्ट्स का कहना है कि अधिक से अधिक लोगों को फ्लू का टीका देने से एक बड़ी समस्या को रोका जा सकता है। क्योंकि अगर किसी को फ्लू हो जाए तो उसे कोरोना की चपेट में आने में देर नहीं लगेगी। यह बेहद घातक साबित हो सकता है।

डॉ मार्क ने कहा कि पिछले साल पूरी दुनिया में फ्लू के मामले बहुत कम थे क्योंकि लोग कोरोना से पीड़ित थे। ऐसा सोशल डिस्टेंसिंग, स्कूलों को बंद करने, मास्क पहनने और यात्रा में कमी के कारण हुआ।  2020-21 के फ़्लू सीज़न में, 100,000 लोगों में से 4 को अमेरिका में फ्लू के कारण अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जबकि सामान्य दिनों में यह रेट 1 लाख में 70 होता है। वहीं, फ्लू से होने वाली मौतों में 95 फीसदी की कमी आई है।

तालिबान आज नई सरकार की घोषणा कर सकता है

Tokyo Paralympics : अवनि लेखारा ने 50 मीटर निशानेबाजी में जीता कांस्य, गोल्डन गर्ल का दूसरा पदक

Cryptocurrency पर सरकार ला रही ड्राफ्ट बिल, टैक्स व अन्य आशंकाएं होंगी दूर

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर