नई दिल्ली. देश के कई राज्यों में कैश की कमी हो गई है. कैश की कमी इस कदर है कि नोटबंदी जैसे हालात हो गए हैं. अधिकतर एटीएम में नो कैश के बोर्ड लगे हैं. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार करीब 8 राज्य के एटीएम में 2000 रुपये के नोट नहीं हैं. कई एटीएम खाली पड़े हैं.खबर है कि देश के कुछ हिस्सों में कैश की मांग अचानक बढ़ जाने के कारण ये दिक्कत हुई है. कैश की परेशानी झेल रहे राज्यों में उत्तर प्रदेश, तेलंगाना, मध्य प्रदेश, बिहार, राजस्थान, गुजरात, आंध्र प्रदेश और महाराष्ट्र शामिल है. मामले को लेकर वित्त मंत्री अरुण जेटली ने स्थिती की समीक्षा की है. उन्होंने ट्वीट किया कि बाजार और बैंकों में पर्याप्त मात्रा में कैश मौजूद है, जो एक दम दिक्कतें सामने आई हैं वो इसलिए है क्योंकि कुछ जगहों पर अचानक कैश की मांग बढ़ी है.

केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री शिव प्रसाद शुक्ल का कहना है कि जहां पैसों की किल्लत हो रही है दरअसल वहां अन्य राज्यों के मुकाबले कम नोट पहुंचे हैं. ऐसे में सरकार जरूरत के हिसाब से सभी राज्यों में नोटों को बांटने के लिए कदम उठा रही है. उन्होंने कहा कि हमारे पास अभी 1 लाख 25 हजार करोड़ रुपये की करेंसी है. उन्होंने कहा कि राज्यों के बीच पैसों का बराबर वितरण न होने से मुसीबत आई है.

इसको लेकर सरकार ने राज्य के स्तर पर एक समिति का गठन किया है. इसके अलावा आरबीआई ने भी एक राज्य से दूसरे राज्य में पैसे भेजने  लिए समिति का गठन किया है.कैश की परेशानी के कारण आम जनता को काफी दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है.

कैश की किल्लत पर राहुल ने कहा- पीएम ने बैंकिंग सिस्टम बर्बाद कर दिया, जेटली बोले- 2-3 दिन में ठीक हो जाएगी दिक्कत

कैश की किल्लत पर TMC सांसद डेरेक ओ ब्रायन का मोदी सरकार पर हमला, बोले- ये आर्थिक आपातकाल है

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App