आगरा. उत्तर प्रदेश में एक तीसरी क्लास की लड़की ने स्कूल में टॉयलेट नहीं होने की वजह से प्रिंसिपल को नाम काटने की अर्जी दी है. मामला आगरा के प्राचीन प्राथमिक कन्या विद्यालय, जगदीशपुरा का है. इस स्कूल में तीसरी कक्षा में पढ़ने वाली छात्रा खुशी ने स्कूल में शौचालय नहीं होने की वजह से प्रिंसिपल को आवेदन देकर अपना नाम कटवाने की अपील की है. खुशी का कहना है कि स्कूल में टॉयलेट नहीं है, जिसके कारण उसे ही नहीं बल्कि बाकी बच्चों को भी काफी दिक्कत होती है.

ईटीवी के मुताबिक, खुशी ने कहा कि स्कूल में टॉयलेट नहीं है. सर्दी के दिनों में तो कम प्यास लगती थी इसलिए कम पानी पीते थे और टॉयलेट जाने की भी जरूरत नहीं होती थी. लेकिन अब गर्मी आ रही हैं और हमें ज्यादा प्यास लगती है. अगर ज्यादा पानी पिएंगे तो बार-बार टॉयलेट के लिए जाना पड़ेगा. लेकिन स्कूल में शौचालय नहीं है इसलिए मैंने अपना नाम कटवाने के लिए प्रिंसिपल को प्रार्थनापत्र दिया है.

इस स्कूल में शौचालय न होना ही इकलौती समस्या नहीं है, इसके अलावा भी बच्चों को कई सारी दिक्कतों का सामना हर रोज करना पड़ता है. बच्चों के बैठने के लिए क्लास रूम नहीं हैं और बच्चे ईंट-पत्थर के ऊपर बैठकर खुले आसमान के नीचे पढ़ाई करते हैं. यह स्कूल 50 साल पुराना हो चुका है जिसकी वजह से बहुत जर्जर हालत में है. इतना ही नहीं बच्चों के लिए खाना भी खुले में ही बनता है. आगरा में पहले भी एक स्कूल से ऐसा ही मामला सामने आया था. सीता नगर के प्राथमिक विद्यालय में टॉयलेट न होने के कारण चार छात्राओं ने स्कूल छोड़ दिया था. स्वच्छता के प्रति तीसरी क्लास की इस बच्ची के कदम को काफी सराहा जा रहा है. 

घर में शौचालय ना होने के कारण हुआ था युवती का रेप, उत्तर प्रदेश पुलिस ने दिया ऐसा गिफ्ट कि बन गई मिसाल