July 18, 2024
  • होम
  • फैसला कठिन था, लेकिन… वायनाड छोड़ने पर क्या बोले राहुल गांधी?

फैसला कठिन था, लेकिन… वायनाड छोड़ने पर क्या बोले राहुल गांधी?

  • WRITTEN BY: Vaibhav Mishra
  • LAST UPDATED : June 17, 2024, 10:28 pm IST

नई दिल्ली: कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने केरल की वायनाड लोकसभा सीट छोड़ने का ऐलान किया है. राहुल अब अपनी मां की सीट यानी रायबरेली से सांसद बने रहेंगे. वायनाड से उनकी बहन प्रियंका गांधी चुनाव लड़ेंगी. इस बीच वायनाड छोड़ने पर राहुल गांधी की प्रतिक्रिया सामने आ गई है. उन्होंने कहा है कि दोनों में से किसी एक सीट को चुनना मेरे लिए कठिन निर्णय था. बता दें कि लोकसभा चुनाव 2024 में राहुल गांधी ने केरल की वायनाड और उत्तर प्रदेश की रायबरेली सीट से जीत हासिल की है.

राहुल गांधी ने क्या कहा?

वहीं, वायनाड छोड़ते वक्त राहुल गांधी ने कहा कि मेरा वायनाड और रायबरेली की जनता से भावनात्मक रिश्ता है. मैं पिछले 5 सालों से वायनाड का सांसद था. मैं वायनाड की जनता को उनके प्यार और समर्थन के लिए अपना धन्यवाद देता हूं. अब प्रियंका गांधी वाड्रा वायनाड लोकसभा सीट से चुनाव लड़ेंगी, लेकिन मैं वहां पर समय-समय पर दौरा किया करूंगा. मेरा रायबरेली की जनता से भी काफी पुराना रिश्ता है, मुझे बहुत खुशी है कि मुझे उनका (रायबरेली के लोगों का) प्रतिनिधित्व करने का मौका मिलेगा. इसके साथ ही राहुल ने कहा कि दोनों में से किसी एक सीट को चुनना मेरे लिए कठिन निर्णय था.

प्रियंका गांधी ने क्या कहा?

कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी ने कहा कि मुझे वायनाड के लोगों का प्रतिनिधित्व करने में बहुत खुशी होगी. मैं उन्हें भाई की (राहुल गांधी की) कमी महसूस नहीं होने दूंगी. मैं कड़ी मेहनत करके सभी को खुश करने का प्रयास करूंगी और एक अच्छा प्रतिनिधि बनने की कोशिश करूंगी. इसके साथ ही प्रियंका ने कहा कि मेरा रायबरेली और अमेठी की जनता से बहुत पुराना रिश्ता है, इसे कभी तोड़ा नहीं जा सकता है. मैं रायबरेली में अपने भाई की भी सहायता करूंगी. हम दोनों रायबरेली और वायनाड के लोगों के लिए मौजूद रहेंगे.

यह भी पढ़ें-

राहुल गांधी ने वायनाड की जगह रायबरेली क्यों चुना? 5 पॉइंट में जानिए

Tags

विज्ञापन

शॉर्ट वीडियो

विज्ञापन