नई दिल्ली: जेएनयू प्रशासन द्वारा अनिवार्य अटेंडेंस को लेकर शुरू हुआ विरोध लगातार बढ़ता ही जा रहा है. अनिवार्य अटेंडेंस के खिलाफ एडमिन ब्लॉक के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे JNUSU पैनल के सभी सदस्यों पर यूनिवर्सिटी प्रशासन ने दस हजार रूपये का जुर्माना लगाया है. जेएनयू के चीफ प्रॉक्टर ने मंगलवार को जेएनयू अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, जनरल सेकेट्री और ज्वाइंट सेकेट्री को सर्कुलर जारी कर जुर्माना भरने का निर्देश दिया है.

इसी के खिलाफ गुरुवार को JNUSU समर्थित छात्रों ने एडमिन ब्लॉक में अधिकारियों को बंद कर दिया. जेएनयू के वाइस चांसलर एम जगदीश कुमार ने इस बाबत एक वीडियो जारी की जिसमें उन्होंने बताया कि ‘जेएनयू छात्रसंघ समर्थित छात्रों ने सुबह 11 बजे से जेएनयू एडमिन ब्लॉक में अधिकारियों को बंद कर रखा है. अधिकारियों को बाहर निकलने नहीं दिया जा रहा है. छात्र शोर मचा रहे हैं और बाहर निकलने की कोशिश करने पर उन्हें वापस अंदर धकेल रहे हैं.’ वाइस चांसलर ने पूछा कि क्या ऐसे व्यवहार की निंदा नहीं की जानी चाहिए?

यूनिवर्सिटी प्रशासन ने एड ब्लॉक की बिजली काट दी है लेकिन छात्र मोमबत्ती लेकर बाहर बैठ गए हैं. फिलहाल बड़ीं सख्या में छात्र मोमबत्ती लेकर एड ब्लॉक के बाहर बैठे हुए हैं. गौरतलब है कि 4 जनवरी को जेएनयू छात्रसंघ के नेतृत्व में बड़ी संख्या में छात्र-छात्राएं वाइस चांसलर से मिलने की मांग को लेकर एड ब्लॉक के बाहर जमा हुए थे. जेएनयू प्रशासन ने एड ब्लॉक के बाहर प्रदर्शन करने को लेकर स्टूडेंट्स यूनियन सेंट्रल पैनल के सदस्यों पर दस हजार रूपये का जुर्माना लगाया था जिसे छात्रसंघ के सदस्यों ने यूनिवर्सिटी द्वारा बदले की कार्रवाई करार दिया था.

पढ़ें-अनिवार्य अटेंडेंस के विरोध में एडमिन ब्लॉक के बाहर प्रदर्शन कर रहे छात्रों पर JNU प्रशासन ने लगाया 10 हजार का जुर्माना

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App