नई दिल्ली. तालिबान के सह-संस्थापक मुल्ला अब्दुल गनी बरादर को टाइम मैगजीन की ‘2021 के 100 सबसे प्रभावशाली लोगों’ की वैश्विक सूची में जगह मिली है। दोहा में तालिबान के राजनीतिक कार्यालय के प्रमुख, मुल्ला बरादर को तालिबान और अमेरिका के बीच दोहा शांति समझौते पर बातचीत करने का श्रेय दिया जाता है। वह तालिबान के संस्थापक सदस्य हैं और आंदोलन के संस्थापक मुल्ला उमर के करीबी सहयोगी थे।

बरादर को इस महीने की शुरुआत में तालिबान की नई अंतरिम सरकार के प्रमुख मुल्ला अखुंद का डिप्टी नियुक्त किया गया था। मुल्ला बरादर पर पाकिस्तानी पत्रकार अहमद रशीद द्वारा टाइम मैगज़ीन में एक प्रोफ़ाइल उन्हें अफगानिस्तान के “भविष्य के लिए आधार” के रूप में वर्णित करती है।

अहमद रशीद लिखते हैं, “एक शांत, गुप्त व्यक्ति जो शायद ही कभी सार्वजनिक बयान या साक्षात्कार देता है, बरादर फिर भी तालिबान के भीतर एक अधिक उदारवादी धारा का प्रतिनिधित्व करता है, जिसे पश्चिमी समर्थन जीतने के लिए सुर्खियों में लाया जाएगा और सख्त वित्तीय सहायता की आवश्यकता होगी। .”सवाल यह है कि क्या अफगानिस्तान से अमेरिकियों को बहलाने वाला व्यक्ति अपने स्वयं के आंदोलन को प्रभावित कर सकता है।”

बरादर ने मौत की अफवाहों पर विराम लगाया

मुल्ला अब्दुल गनी बरादर ने हाल ही में अफगान राज्य टेलीविजन पर अपनी मृत्यु के बारे में अफवाहों को दबाने के लिए एक आश्चर्य के रूप में आया था। पिछले कुछ दिनों में कई अपुष्ट रिपोर्टों ने काबुल में राष्ट्रपति भवन में प्रतिद्वंद्वी तालिबान गुटों के बीच गोलीबारी की ओर इशारा किया। ऐसे दावे थे कि उक्त गोलीबारी में बरादर को गंभीर चोटें आई थीं।

अपनी मौत की अफवाहों के पीछे ‘फर्जी प्रचार’ को जिम्मेदार ठहराते हुए तालिबान नेता को अफगान सरकारी टेलीविजन से यह कहते हुए सुना जा सकता है: “मेरी मौत के बारे में मीडिया में खबरें थीं। पिछली कुछ रातों में, मैं यात्राओं पर गया हूं। मैं जहां भी हूं। इस समय, हम सब ठीक हैं, मेरे सभी भाइयों और दोस्तों।”

TIME 100: टाइम मैगजीन की ‘2021 के 100 प्रभावशाली लोगों में पीएम मोदी, ममता SII सीईओ पूनावाला के साथ ये आतंकी भी

डिफेंस ऑफिस परिसरों का उद्घाटन करेंगे पीएम मोदी, राजनाथ सिंह, सीडीएस बिपिन रावत होंगे शामिल

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर