नई दिल्ली. साल 2016 में सीमा पार कर आतंकियों के ठिकानों को नेस्तनाबूत करने वाली सर्जिकल स्ट्राइक का वीडियो 636 दिन बाद सामने आ गया है. इस वीडियो के सामने आने के बाद सर्जिकल स्ट्राइक पर उठ रहे सवालों का सरकार की तरफ से मुंहतोड़ जवाब दिया गया है. सर्जिकल स्ट्राइक पर विपक्ष द्वारा लगातार सवाल उठाए गए थे. उस वक्त सेना ने भी सर्जिकल स्ट्राइक के बारे में प्रेस कांफ्रेंस कर जानकारी दी थी इसके बावजूद विपक्ष हमलावर था.

सर्जिकल स्ट्राइक के आठ मिनट के वीडियो में भारतीय सेना के जवानों ने पीओके में आतंकियों के सात कैंप तबाह कर दिए थे. ड्रोन कैमरे और हेल्मेट कैमरे के जरिए यह वीडियो शूट किया गया था. इस वीडियो में आतंकियों के ठिकाने तबाह होते हुए साफ तौर पर देखा जा सकता है. आठ मिनट के इस वीडियो में जवानों की शौर्यगाथा कैद है. अरुण शौरी ने मंगलवार को ही सर्जिकल स्ट्राइक को फर्जीकल स्ट्राइक करार दिया था.

अरुण शौरी ने कहा था कि केंद्र सरकार के पास कश्मीर या पाकिस्तान के लिए कोई नीति नहीं है. सरकार के पास सिर्फ एक ही नीति है, हमें हिंदू मुसलमान में बांटना. इस वीडियो के सामने आने के बाद अभी अरुण शौरी ने सर्जिकल स्ट्राइक पर दोबारा कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है. इस वीडियो में सेना की उस रात की कार्रवाई कैद है जिस पर सवाल उठ रहे थे.

भारतीय सेना ने 28-29 सितंबर 2016 की रात आतंकी कैंपों पर सर्जिकल स्ट्राइक की थी. इस सर्जिकल स्ट्राइक का वीडियो 21 महीने बाद सामने आया है. वीडियो में नजर आ रहा है कि भारतीय सेना के जवान पीओके में घुसकर किस तरह आतंकियों के ठिकाने तबाह कर रहे हैं. सिर्फ आठ मिनट का यह वीडियो भारतीय जवानों की कार्रवाई का पुख्ता सबूत है.

फिल्म ‘उड़ी’ में एनएसए अजीत डोभाल का किरदार निभाएंगे परेश रावल, सामने आया फर्स्ट लुक

लंदन में पीएम नरेंद्र मोदी बोले, सर्जिकल स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान से कहा- अपनी लाशें ले जाओ

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App