नई दिल्लीः गुजरात के पूर्व आईपीएस संजीव भट्ट की पत्नी द्वारा लगाए गए गुजरात सरकार पर गंभीर आरोपों के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने राज्य सरकार से जवाब मांगा है. शीर्ष अदालत ने कहा कि सरकार इम मामले पर जवाब दे, सर्वोच्च न्यायालय का कहना है कि संजीव भट्ट की पत्नी द्वारा लगाए गए आरोप बेहद गंभीर हैं जिस पर सबसे पहले राज्य सरकार को जवाब देना चाहिए. कोर्ट ने इस मामले पर सख्ती दिखाते हुए कहा कि अगर किसी नागरिक की पत्नी इस तरह के गंभीर आरोप लगाती है तो राज्य सरकार को बताना होगा की ये चल क्या रहा है.

सुप्रीम कोर्ट की सख्ती के बाद अब गुजरात सरकार इस मामले में शुक्रवार तक जवाब दाखिल करेगी. वहींं इस मामले में अब अगली सुनवाई चार अक्टूबर को होगी. सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में सख्ती दिखाते हुए गुजरात सरकार से सवाल किया है कि किसी नागरिक की पत्नी ने आप पर गंभीर आरोप लगाए हैं तो आपको जवाब देना होगा कि ये क्या चल रहा है. 

आपको बता दें कि पूर्व आईपीएस संजीव भट्ट की पत्नी श्वेता भट्ट ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर कहा है कि उनके पति इस समय पुलिस रिमांड पर हैं और उन्हें पुलिस इस दौरान ना तो वकालतनामा साइन करने दे रही है और ना ही इस केस को कोर्ट में चुनौती देने दे रही है. इस याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने भी सख्ती दिखाते हुए गुजरात सरकार से जवाब मांगा है. 

यह भी पढ़ें- पीएम नरेंद्र मोदी पर तंज कसने के चक्कर में पूर्व IPS संजीव भट्ट ने पॉर्न स्टार को किया टैग, जमकर हुई किरकिरी

CAG रिपोर्ट ने खोली नरेंद्र मोदी सरकार के दावे की पोल- गुजरात में ग्रामीण इलाकों के कई घरों में नहीं है टॉयलेट

 

 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर