कोलकाता. केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो गुरुवार की शाम को अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद द्वारा भाजपा से जुड़े छात्र संगठन के एक कार्यक्रम में शामिल होने के लिए जाधोपुर विश्वविद्यालय गए. वहां छात्रों ने उन्हें निशाना बनाया. केंद्रीय मंत्री को राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने कैंपस से बाहर निकाला, जो विरोध की जानकारी पाते ही मौके पर पहुंचे. इस मामले ने बड़े राजनीतिक विवाद को जन्म दिया है. राज्यपाल के कार्यालय ने इस घटना को राज्य की कानून-व्यवस्था और कानून लागू करने वाली एजेंसियों के आचरण का गंभीर मुद्दा बताया है. सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस ने कहा कि सरकार को इसकी जानकारी दिए बिना या राज्य के अधिकारियों को स्थिति को संभालने का मौका दिए बिना राज्यपाल तथाकथित बचाव मिशन पर गए.

बाबुल सुप्रियो ने आरोप लगाया कि उन्हें बाहर जाने के दौरान रास्ते में ही घेर लिया गया था. उनके खिलाफ कैंपस में सीपीएम के स्टूडेंट्स फेडरेशन ऑफ इंडिया ने नारे लगाए और काले झंडे दिखाए. उन्होंने कहा, मैं यहां राजनीति करने नहीं आया था. लेकिन विश्वविद्यालय के कुछ छात्रों के व्यवहार से मैं दुखी हूं, जिस तरह से उन्होंने मुझे उकसाया. उन्होंने मुझे बालों से खींच लिया और मुझे धक्का दिया. उन्होंने यह भी कहा कि प्रदर्शनकारी छात्रों ने अपने आपको नक्सली कहकर उन्हें उकसाने की कोशिश की. छात्रों ने उन्हें जाने देने से इनकार करते हुए कार का रास्ता भी अवरुद्ध कर दिया.

राजभवन ने एक बयान में कहा, राज्यपाल इस घटना को बहुत गंभीरता से लेते हैं क्योंकि इसमें केंद्रीय मंत्री की गैरकानूनी नजरबंदी शामिल है और यह राज्य की कानून-व्यवस्था और कानून लागू करने वाली एजेंसियों के आचरण पर बहुत गंभीर प्रतिबिंब है. सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस ने कहा कि वो बाबुल सुप्रीयो के राजनीतिक विचारों का कड़ा विरोध करते हैं. राज्य के शिक्षा मंत्री और वरिष्ठ तृणमूल नेता पार्थ चटर्जी ने कहा, न तो टीएमसी और न ही पुलिस घटना में शामिल है. यह भाजपा और वामपंथी संघ के छात्रों बनाम भाजपा नेता का मामला है.

BJP Leader Azad Singh Assaults Wife: दिल्ली के बीजेपी नेता आजाद सिंह ने पार्टी कार्यालय में पूर्व मेयर पत्नी को पीटा

Syed Akbaruddin on Kashmir and Pakistan Issue: संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि सैयद अकबरुद्दीन का कड़ा रुख- यूएन में पाकिस्तान ने उठाया कश्मीर मुद्दा तो भारत देगा जवाब

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App