महाराष्ट्र. Maharastra Violence महाराष्ट्र पुलिस ने अमरावती बंद के दौरान मोर्चे में शामिल हुए बीजेपी नेताओं पर शिकंजा कसना शुरू किया है. पुलिस ने कई बीजेपी नेताओं के घर पर छापेमारी की है. अबतक पुलिस ने कुल 13 बीजेपी कार्यकताओं को गिरफ्तार किया है, जिसमें पूर्व कृषि मंत्री अनिल बोंडे भी शामिल है. महाराष्ट्र पुलिस को बंद और हिंसा करवाने के मामलें में अभीतक कुल 15 प्रथिमिकी मिल चुकी हैं. पुलिस ने इसपर कार्यवाई करते हुए अबतक 50 से अधिक प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार किया हैं. पूर्व कृषि मंत्री को गिरफ्तार करते हुए उन्होंने बोला-आवाज़ दबाने की कितनी भी कोशिश की जाए, अब हिंदू मार नहीं खाएगा’.

आपको बता दें पिछले महीने त्रिपुरा में हुई हिंसा के विरोध प्रदर्शन में मुस्लिम संगठनों ने महाराष्ट्र (Maharashtra) के अमरावती (Amravati), नांदेड़ (Nanded) और मालेगांव (Malegaon) में शुक्रवार को विरोध प्रदर्शन किया था, जिसका बीजेपी ने विरोध करते हुए अगले दिन बंद का ऐलान किया था. इस दौरान दुकानों पर पथराव किया गया और प्रदर्शनकारियों ने जमकर उत्‍पात मचाया। पुलिस को इसे रोकने के लिए हल्का बल का प्रयोग करना पड़ा था.

बीजेपी ने रज़ा अकादमी पर साधा निशाना
खबरों के मुताबिक बीजेपी विधायक अतुल भातखलकर ने कहा कि-‘त्रिपुरा में विरोध प्रदर्शन के बाद महाराष्ट्र में रज़ा अकादमी द्वारा सोची-समझी साजिश के तहत हिंसा भड़काई गई, तोड़फोड़ और पथराव कर दुकानें बंद करवाई गईं. इसका विरोध करते हुए बीजेपी ने बंद का ऐलान किया था.साथ ही उन्होंने कहा कि ” क्या लोकतंत्र में विरोध का अधिकार नहीं है? उत्पात मचाने वालों को बचाया जा रहा है, हिंदुओं को दबाया जा रहा है. बीजेपी विधायक अतुल भातखलकर ने बताया कि जिन लोगों ने महाराष्ट्र (Maharashtra) के अमरावती (Amravati), नांदेड़ (Nanded) और मालेगांव (Malegaon) में हिंसा भड़काई, उनपर कार्यवाई नहीं हो रही, बल्कि राजनीतिक दुश्मनी के तहत बीजेपी को निशाना बनाया जा रहा है.

अमरावती के बाद नागपुर में भी लगाई गई धारा 144
अमरावती में अब हालत पहले से बेहतर है और पुलिस नियमित रूप से इलाकों की गश्त कर रही है. अमरावती में 4 दिन के लिए धारा 144 लगाई गई है और इंटरनेट सेवा भी बंद है. वही अमरावती के बाद अब नागपुर में भी धारा 144 लगाई गई है. प्रशासन ने अफवाह फैलाने वाले लोगो पर सख्त कार्रवाई करने के आदेश दिए है.

कल बीजेपी की अहम कार्यकारिणी बैठक
मंगलवार को बीजेपी की कार्यकारिणी बैठक होनी है, जिसमें बीजेपी त्रिपुरा हिंसा के बाद महाराष्ट्र में हुए दंगो के लिए रजा अकादमी को जिम्मेदार मानते हुए, उनके खिलाफ प्रतिबंध की मांग उठाएगी। बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष चंद्रकांत पाटील ने कहा की जब देवेंद्र फडणवीस की सरकार थी, तब शहर में अमन और शांति का माहौल था, लेकिन महा विकास आघाडी सरकार के दौरान नियम कानूनों का कोई मतलब नहीं रह गया है. इसपर शिवसेना नेता संजय राउत ने पलटवार करते हुए कहा कि रज़ा अकादमी की इतनी औकात नहीं है कि राज्य के अलग अलग हिस्सों में दंगे भड़काए। उन्होंने कहा कि त्रिपुरा हिंसा का असर सिर्फ महाराष्ट्र में क्यों दिखा?, यूपी,एमपी, बिहार में क्यों नहीं? इसका मतलब साफ़ है कि बीजेपी महाराष्ट्र की सरकार को अस्थिर करने की साजिश रच रही है.

यह भी पढ़ें:

Famous Hindi writer Mannu Bhandari Passes away : ‘महाभोज’ और ‘आपका बंटी’ की लेखिका मन्नू भंडारी का निधन

Kailash Satyarthi on iTV Network: देश में लगभग डेढ़ से दो करोड़ बच्चे मजदूरी करते होंगे

 

 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर