जम्मू कश्मीर. Jammu Kashmir जम्मू कश्मीर में श्रीनगर के हैदरपोरा में मारे गए व्यपारियों को लेकर विरोध प्रदर्शन तेज हो गया है. आज दो नागरिकों की मौत के विरोध में हुर्रियत कॉन्फ्रेंस ने बंद का आह्वान किया है. दरअसल सोमवार को सेना ने 2 आतंकी मार गिराए थे, जिसमें 2 स्थानीय लोगों की भी मौत हो गई थी. इसी बीच पूरे कश्मीर में विशेष रूप से श्रीनगर में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है.किसी भी कानून-व्यवस्था की गड़बड़ी को रोकने के लिए, सुरक्षा कर्मियों की भारी तैनाती, विशेष रूप से श्रीनगर के डाउनटाउन जैसे संवेदनशील इलाकों, अन्य जिलों के प्रमुख शहरों और बाहर की मस्जिदों में जुमे की नमाज के मद्देनजर ये तैनाती की गई है. हुर्रियत ने एक बयान में कहा कि हैदरपोरा मुठभेड़ ने कश्मीर के लोगों को स्तब्ध कर दिया है. आमतौर पर जब भी राजनीतिक दल के नेता इस तरह के मुद्दों का विरोध प्रदर्शन करते है, तो उन्हें जेल या नजरबन्द कर दिया जाता है. हम प्रशासन से मारे गए लोगों के शवो को वापस लौटने के लिए कह रहे है. लोगों को भी इस बंद का समर्थन करना चाइए।

परिजन ने सेना से की शवो मांग

आपको बता दें दोनों स्थानीय पेशे से व्यपारी थे, मुठभेड़ में मारे जाने के बाद उनके परिजन ने सेना से शवो की मांग की थी और इस मामलें में प्रसासन से न्यायिक जांच के लिए आग्रह किया था. इसपर कल जम्मू कश्मीर के उप राज्यपाल ने ट्वीट करते हुए बताया कि हैदरपोरा एनकाउंर की एडीएम रैंक के एक अधिकारी ने न्यायिक जाँच के आदेश दे दिए गए हैं. जांच की रिपोर्ट मिलने के बाद ही प्रशासन इस मामलें में उचित कार्रवाई करेगा साथ ही सेना से मारे गए लोगों के शवो को वापस करने को कहा है.

यह भी पढ़ें:

farm laws revokes: मोदी के अहंकार ने 700 किसानों की जान ली; सड़क पर उतरी जनता, तो डर गई सरकार: असदुद्दीन ओवैसी

Electricity Reached at Last Village of Ladakh: लद्दाख में एलएसी के पास पहले तिब्बती गांव डुंगती के सभी घरों में पहुंची बिजली

 

 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर