अयोध्या. श्री श्री रविशंकर आज अयोध्या विवाद को कोर्ट के बाहर सुलझाने के लिए अयोध्या पहुंचेंगे. जहां वो पहले राम लला के दर्शन करेंगे. उसके बाद इस गंभीर मसले पर हिंदू- मुस्लिम पक्षकारों से बात करेंगे. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार रविशंकर आज सुबह 11 बजे अयोध्या पहुंचेंगे. सबसे पहले वो राम जन्मभूमि के दर्शन करेंगे, उसके बाद इकबाल अंसारी और मुस्लिमों के पक्षकार सुन्नी वक्फ बोर्ड के हाजी महबूब से मुलाकात करेंगे. उसके बाद राम जन्मभूमि श्राइन बोर्ड के चेयरमैन नृत्य गोपालदास से मुलाकात होगी. बाद में वो राम विलास दास वेदांती से मुलाकात कर इस मुद्दे का हल निकलने की कोशिश करेंगे.

इससे पहले लखनऊ में बुधवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलने के बाद श्री रविशंकर ने कहा कि मध्यस्थता करने वाले कोई प्रस्ताव लेकर नहीं जाते हैं और अभी सभी पक्षों से खुले दिल से बातचीत हो रही है. इससे पहले श्री श्री से मिलने आए रसिक पीठाधीश्वर महंत जनमेजय शरण ने कहा कि सर्वोच्च न्यायालय में सुनवाई से पहले अयोध्या विवाद सुलझाने का पूरा प्रयास हो रहा है. बता दें कि श्री श्री से मिले दिगंबर अखाड़े के महंत सुरेश दस का कहना है कि 14 कोसी परिक्रमा यानी विवादित जगह से 42 किलोमीटर के रेडियस के अंदर मस्जिद नहीं बनने देंगे. श्री श्री रविशंकर आज अयोध्या में साधु-संतों से मुलाकात कर उन्हें समझौते के लिए राजी करने की कोशिश करेंगे.

वहीं दूसरे ओर रविशंकर की इस पहल को लेकर कुछ लोग सवाल खड़े कर रहे हैं. इस मामले में केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बाज नकवी का कहना है कि विवाद को लेकर श्री श्री रविशंकर जो मध्यस्थता कर रहे हैं, उसमें केंद्र सरकार की कोई भूमिका नहीं है. उनका कहना है कि अगर ये मामला बातचीत से सुलझता है तो अच्छी बात है. वहीं एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने राम मंदिर मुद्दे पर श्री श्री रविशंकर पर वार किया है. उन्होंने कहा कि श्री श्री रविशंकर झूठ बोल रहे हैं, वह मुस्लिम पर्सनल लॉ से नहीं मिले हैं. ओवैसी ने कहा कि ऐसा करके उन्हें नोबेल पुरस्कार नहीं मिलेगा.

अयोध्या विवाद पर मध्यस्थता के लिए योगी आदित्यनाथ से मिले श्री श्री रविशंकर

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर