लखनऊ. शहर के गोमती नगर के ताज होटल में हुई अखिलेश यादव और मायवती की प्रेस कॉन्फ्रेंस में 26 साल बाद सपा-बसपा के बीच गठबंधन हो गया है. दोनों पार्टी उत्तर प्रदेश में 38-38 सीटों पर चुनाव लडेंगी और दो सीटें अन्य और दो सीटे रायबरेली और अमेठी को कांग्रेस के लिए छोड़ दिया है.

इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में मायावती और अखिलेश यादव ने बीजेपी पर जमकर हमला बोला है. अखिलेश यादव ने इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा सपा-बसपा के बीच उस दिन ही गठबंधन का विचार बन गया था जब बसपा ने मायावती जी के बारे में अभद्र टिप्पणियां की थीं. इसके बाद सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने कहा बीजेपी के लोगों ने बसपा उम्मीदवार भीमराव आंबेडकर को छल-कपट से हराकर खुंशियां मनाईं थी.

वहीं अखिलेश यादव ने कहा कि बीजेपी के राज में उत्तर प्रदेश में जाति-धर्म के नाम पर काम हो रहा है, आए दिन बेकसूर लोगों के एनकाउंटर किए जाने की खबरें आती हैं और जब कोई घायल अस्पताल में इलाज के लिए जाता है तो उसकी जाती पूछी जाती है. बसपा और सपा ने बीजेपी के अन्याय का खात्मा करने के लिए गठबंधन किया है.

देश के अगले प्रधानमंत्री के बारे में पूछे गए सवाल पर अखिलेश ने कहा कि देश को अधिकतर उत्तर प्रदेश ने प्रधानमंत्री दिए हैं और इस बार भी मुझे खुशी होगी की इस बार भी उत्तर प्रदेश से ही हो. इसके साथ ही अखिलेश ने कहा आज से समाजवादी पार्टी का हर कार्यकर्ता यह मान ले कि मायावती जी का सम्मान, मेरा सम्मान है. अगर कोई भाजपा नेता मायावती जी का अपमान करता है तो वह मेरा अपमान माना जाए.

SP BSP Alliance: जानिए क्या था लखनऊ गेस्ट हाऊस कांड, जिसे भूलकर मायावती ने किया अखिलेश यादव की सपा से गठबंधन

SP-BSP Alliance: बसपा सुप्रीमो मायावती ने किया अखिलेश यादव की सपा से गठबंधन, बीजेपी और कांग्रेस को सुनाई खरी-खरी

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App