जम्मू. भारतीय जवानों की बहादुरी के किस्से यूं ही नहीं कहे जाते. ये किस्से उनकी देश के प्रति दृढ़कृतज्ञता और समर्पण के कारण बताए जाते हैं. इसका ताजा उदाहरण हैं मेजर अभिजीत जो कि जम्मू के सुंजवान आर्मी कैंप पर हुए आतंकी हमले में बुरी तरह घायल हो गए थे. सुंजवान हमले में मेजर अभिजीत इतनी बुरी तरह घायल हुए थे कि वे 3-4 दिन बेहोश रहे. होश में आते ही उनका पहला सवाल था ‘आतंकियों का क्या हुआ?’

न्यूज एजेंसी एएनआई से बात करते हुए मेजर अभिजीत ने कहा कि फिलहाल वे काफी अच्छा महसूस कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि अब वह डॉक्टरों से बात कर पा रहे हैं और दिन में दो बार खुद चल भी पा रहे हैं. मेजर अभिजीत का इलाज उधमपुर के आर्मी अस्पताल में चल रहा है. उधमपुर कमांड अस्पताल के कमांडेंट मेजर जनरल नदीप नैथानी ने मेजर अभिजीत के बारे में कहा कि उनका आत्मबल बहुत ऊंचा है. उन्होंने बताया कि सर्जरी के तुरंत बाद मेजर ने सबसे पहला सवाल यही किया कि आतंकियों का क्या हुआ.

अस्पताल के कमांडेंट मेजर जनरल नदीप नैथानी के मुताबिक, मेजर अभिजीत के स्वास्थ्य में काफी तेजी से सुधार हो रहा है. मेजर अभिजीत घायल अवस्था में भी फिर से वापस जाने के लिए तत्पर थे. बता दें कि शनिवार को तड़के करीब पांच बजे सुंजवान के आर्मी कैंप पर आतंकियों ने हमला किया था. तभी से आर्मी ने आतंकियों के खिलाफ मोर्चा खोला हुआ है. सुंजवान हमले में अब तक 6 जवान शहीद हुए हैं वहीं, आर्मी ने पहले दिन ही तीन आतंकी मार गिराए थे.

सुंजवान हमले के बाद बोले असदुद्दीन ओवैसी- BJP- PDP वाले खा रहे मलाई, जाने कब तक करेंगे ड्रामा

RTI से खुलासा: पिछले 28 सालों में भारत के जांबाज जवानों ने 22 हजार से ज्यादा आतंकियों को 72 हूरों के पास भेजा

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App