गंगटोक/नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह की भारतीय जनता पार्टी के मिशन कमल का प्रभाव पूर्वोत्तर में भी सिर-चढ़कर बोल रहा है. सिक्किम डेमोक्रेटिक फ्रंट (एसडीएफ) के 15 में से 10 विधायक मंगलवार को बीजेपी में शामिल हो गए. इसे पूर्वोत्तर में अब तक के सबसे बड़े राजनीतिक उलटफेर के तहत देखा जा रहा है. सिक्किम के पूर्व मुख्यमंत्री पवन कुमार चामलिंग समेत 5 विधायकों को छोड़ अन्य सभी ने बीजेपी का दामन थाम लिया है. एसडीएफ छोड़कर गए 10 विधायकों ने मंगलवार को बीजेपी के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा के समक्ष भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता ग्रहण कर की.

इससे सिक्किम के पुराने क्षेत्रीय राजनीतिक दल एसडीएफ को बड़ा झटका लगा है. पार्टी में अब पवन चामलिंग ही अकेले बड़े नेता रह गए हैं. पवन कुमार चामलिंग ने करीब 25 साल तक सिक्किम की सत्ता संभाली थी.सिक्किम डेमोक्रेटिक फ्रंट के विधायकों के पार्टी छोड़ने के बाद राज्य की सत्ताधारी सिक्किम क्रांतिकारी मोर्चा की भी नींदे उड़ गई हैं.

दरअसल इसी साल लोकसभा चुनाव के साथ सिक्किम में विधानसभा चुनाव भी हुए थे. जिसमें 32 में से 17 विधानसभा सीटों पर सिक्किम क्रांतिकारी मोर्चा ने जीत दर्ज की थी और प्रेम सिंह तमांग के नेतृत्व में राज्य में सरकार का गठन किया था. वहीं 15 सीटें जीत कर एसडीएफ मुख्य विपक्षी पार्टी बनी.

अब बीजेपी ने एक साथ एसडीएफ के 10 विधायकों को अपने पाले में कर राज्य की मुख्य विपक्षी पार्टी को तोड़ दिया है. वर्तमान में सिक्किम विधानसभा में बीजेपी का एक भी विधायक नहीं है, लेकिन अब पार्टी की संख्या 0 से 10 पहुंच गई है. बीजेपी में जाने से एसडीएफ का वजूद सिक्किम से खत्म होता नजर आ रहा है.

वहीं सत्ताधारी सिक्किम क्रांतिकारी मोर्चा को भी अपने विधायकों के टूटकर बीजेपी में शामिल होने का डर सता रहा है. यदि बीजेपी राज्य में सत्ताधारी पार्टी के कुछ विधायकों को भी अपने पाले में करने में सफल होती है तो पूर्वोत्तर के इस राज्य में भी कमल खिलने के आसार बन सकते हैं.

Amit Shah Tiranga Hoist on Srinagar Lal Chowk: गृह मंत्री अमित शाह श्रीनगर के लाल चौक पर स्वतंत्रता दिवस के दिन फहराएंगे तिरंगा!

Vaiko Controversial Statement On Jammu And Kashmir: एमडीएमके चीफ वाइको ने दिया विवादित बयान, कहा- देश की आजादी के 100 वें साल पर कश्मीर नहीं होगा भारत का हिस्सा

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App