नई दिल्ली. भारतीय सेना ने जम्मू और कश्मीर की हालात पर ट्वीट करने वाली पूर्व जेएनयू छात्र नेता नेता शेहला राशिद के आरोपों को खारिज करते हुए उन्हें निराधार करार दिया है. सेना ने कहा, शेहला रशीद द्वारा लगाए गए आरोप बेबुनियाद और अस्वीकृत हैं. इस तरह की फर्जी खबरों को असामाजिक तत्व और संगठन फैला रहे हैं. सुप्रीम कोर्ट के वकील अलख आलोक श्रीवास्तव ने शेहला राशिद के खिलाफ एक आपराधिक शिकायत दर्ज कराई है जिसमें कथित तौर पर भारतीय सेना और भारत सरकार के खिलाफ फर्जी खबर फैलाने के आरोप में पूर्व छात्र नेता को गिरफ्तार करने की मांग है. 

दरअसल, रविवार के दिन शेहला राशिद ने एक बाद एक 10 ट्वीट कर कश्मीर की मौजूदा हालात बताए. ट्वीट में शेहला राशिद ने कहा कि जम्मू और कश्मीर पुलिस के पास कोई अधिकार नहीं है. उन्हें शक्तिहीन कर दिया गया है. सब कुछ अर्धसैनिक बलों के हाथों में है. सीआरपीएफ के एक जवान की शिकायत पर थाना प्रभारी का ट्रांस्फर कर दिया गया. एसएचओ के पास डंडे दिख रहे हैं, लेकिन उनके पास सर्विस रिवाल्वर नहीं देखी जा सकती. एक ट्वीट में शेहला राशिद ने कहा कि सशस्त्र बल रात में घरों में प्रवेश कर रहे हैं, लड़कों को उठा रहे हैं, घरों में तोड़फोड़ कर रहे हैं, जानबूझकर फर्श पर राशन फैला रहे हैं, चावल के साथ तेल मिला रहे हैं.

रशीद ने यह भी दावा किया कि शोपियां में, चार लोगों को सेना के शिविर में बुलाया गया था और पूछताछ (यातना) की गई. उन्होंने लिखा, एक माइक उनके पास रखा गया था ताकि पूरा क्षेत्र उनकी चीख सुन सके और आतंकित हो सके. इससे पूरे क्षेत्र में भय का माहौल पैदा हो गया है. जम्मू और कश्मीर प्रशासन ने रविवार को कहा कि 190 से अधिक प्राथमिक स्कूल श्रीनगर में आज फिर से खुलेंगे, इसके अलावा कश्मीर घाटी में सरकारी कार्यालयों की पूर्ण कार्यक्षमता बहाल की जाएगी.

पढ़ें शेहला रशीद के ट्वीट्स

योजना और विकास विभाग के प्रधान सचिव रोहित कंसल ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए कहा, हमारे पास अकेले श्रीनगर जिले के 190 से अधिक प्राथमिक विद्यालयों को फिर से खोलने की योजना है. उन्होंने कहा कि प्रतिबंधात्मक आदेशों में ढील देने और छूट प्रदान करने की प्रक्रिया रविवार को भी जारी रही. कंसल ने कहा कि रविवार को 50 पुलिस थानों में छूट प्रदान की गई थी, जबकि शनिवार को 35 पुलिस स्टेशनों के खिलाफ थी और छूट की अवधि छह घंटे से बढ़ाकर आठ घंटे कर दी गई थी.

Narendra Modi Govt India to Free POK: पीएमओ राज्य मंत्री जितेंद्र सिंह ने कहा- पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर को मुक्त करने पर संसद सहमत, हम अपनी जिंदगी में पीओके को भारत में शामिल देखना चाहते हैं

Rajnath Singh on Pakistan Occupied Kashmir: जम्मू कश्मीर को लेकर बौखलाए पाकिस्तान को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की चेतावनी, बोले- अब जो बात होगी पीओके पर होगी

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App