नई दिल्ली: सीएए और एनआरसी के मुद्दे पर करीब दो महीने से शाहीन बाग में धरना दे रहे लोगों से बात करने के लिए सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त वार्ताकार वकील संजय हेगड़े और साधना रामचंद्रन आज कड़ी पुलिस सुरक्षा के बीच प्रदर्शनकारियों के बीच पहुंचे और उनसे बात की. इस दौरान संजय हेगड़े ने वहां मौजूद लोगों को कोर्ट का आदेश पढ़कर सुनाया.

इस दौरान वार्ताकारों ने मीडिया को ये कहकर वहां से जाने को कह दिया कि मीडिया के सामने वो ठीक से बात नहीं कर पाएंगे. इसके बाद काफी देर तक वार्ताकार प्रदर्शनकारियों को समझाते रहे. संजय हेगड़े ने प्रदर्शनकारियों से कहा कि वो सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर आए हैं और वो आपसी सहयोग से मामले को सुलझाने की कोशिश करेंगे.

साधना रामाचंद्रन ने भी लोगों से कहा कि आपके प्रदर्शन की वजह से लोगों को परेशानी हो रही है जो नहीं होनी चाहिए. हालांकि उन्होंने ये भी कहा प्रदर्शन सबका हक है. उन्होंने ये भी कहा कि हम किसी तरह का फैसला सुनाने नहीं बल्कि सिर्फ बात करने आए हैं. इस दौरान मीडिया को वहां से हटाए जाने को लेकर साधना रामाचंद्रन ने कहा कि पहले वो प्रदर्शनकारियों से बात कर लें फिर वो मीडिया से भी बात करेंगी. प्रदर्शनकारियों से बात करने के बाद सुप्रीम कोर्ट का प्रतिनिधिमंडल लौट चुका है. हालांकि उन्होंने ये कहा है कि वो गुरुवार को फिर बात करने आएंगे.

शाहीन बाग में प्रदर्शन कर रहे प्रदर्शनकारियों के बीच एक समस्या ये भी है कि वहां कोई प्रतिनिधिमंडल या संस्था नहीं है जो खुलकर अपना मुद्दा रख सके. गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने शाहीन बाग में चल रहे प्रदर्शन को लेकर अपनी टिप्पणी में कहा था कि प्रदर्शन करना लोगों का लोकतांत्रिक अधिकार है लेकिन प्रदर्शन की वजह से लोगों को परेशानी नहीं होनी चाहिए.

कोर्ट ने दिल्ली पुलिस से भी कहा था कि वो प्रदर्शनकारियों के लिए अलग से जगह मुहैया करवाएं ताकि वो वहां जाकर प्रदर्शन कर सकें. पिछले दिनों शाहीन बाग की बुजुर्ग औरतों ने भी गृहमंत्री अमित शाह से मिलने की कोशिश की थी लेकिन उनकी मुलाकात हो नहीं पाई. सरकार कह चुकी है कि वो बातचीत के लिए तैयार है बशर्ते उनका प्रतिनिधिमंडल आकर गृहमंत्री से मुलाकात करे.

Jamia Violence New CCTV Footage: जामिया यूनिवर्सिटी में पुलिस की बर्बरता का वीडियो जारी, लाइब्रेरी में पढ़ते छात्रों पर पुलिस भांज रही है लाठियां

Supreme Court on Shaheen Bagh: शाहीन बाग पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा- प्रदर्शन करना अधिकार मगर सड़क जाम करके नहीं, बातचीत से मुद्दा सुलझाने की पहल

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App