शाहीनबाग:

नई दिल्ली। देश की राजधानी दिल्ली के शाहीनबाग इलाके में अतिक्रमण हटाने के लिए पहुंचा एमसीडी का बुलडोजर वापस लौट आया. भारी हंगामे और विरोध प्रदर्शन के बीच एमसीडी की टीम वहां सिर्फ एक बिल्डिंग के बाहर लोहे की रॉड्स ही हटा सकी. जिसे रेनोवेशन के लिए लगाया गया था. इसी बीच कांग्रेस कार्यकर्ताओं और स्थानीय लोगों ने बुलडोजर विरोधी कार्रवाई के खिलाफ जोरदार विरोध-प्रदर्शन किया. जिसके बाद कई महिलाओं को पुलिस ने हिरासत में भी लिया।

सुप्रीम कोर्ट पहुंचा मामला

ताजा जानकारी के अनुसार दिल्ली नगर निगम द्वारा अतिक्रमण विरोधी अभियान और बुलडोजर कार्रवाई का मामला अब देश की सबसे बड़ी अदालत में पहुंच गया. बताया जा रहा है कि बुलडोजर की कार्रवाई के खिलाफ एक याचिका सुप्रीम कोर्ट में दायर की गई है।

इन जगहों पर होनी है कार्यवाही

बता दें कि दिल्ली नगर निगम का राजधानी के कई इलाकों में बुलडोजर चलाने की योजना है. जिसमें आज यानि 9 मई को सबसे पहले शाहीन बाग के जी ब्लॉक से जसोला और फिर उसके बाद जसोला नाले से कालिंदी कुंज पार्क तक अतिक्रमण विरोधी अभियान चलना था. 10 मई को गुरुद्वारा रोड और न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी से बौद्ध धर्म मंदिर तक. इसके बाद 11 मई को लोधी कॉलोनी, मेहरचंद मार्केट और साईं मंदिर के आसपास. 12 मई को ढिंसन मार्ग, इस्कॉन मंदिर मार्ग और उसके आसपास क्षेत्र में चलेगा और फिर 13 मई को खड्डा कॉलोनी में बुलडोजर अभियान चलाने की योजना है।

यह भी पढ़ें:

Delhi-NCR में बढ़े कोरोना के केस, अध्यापक-छात्र सब कोरोना की चपेट में, कहीं ये चौथी लहर का संकेत तो नहीं

IPL 2022 Playoff Matches: ईडन गार्डन्स में हो सकते हैं आईपीएल 2022 के प्लेऑफ मुकाबले, अहमदाबाद में होगा फाइनल

SHARE

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर