श्रीनगर: दो दिन पहले आईएएस पद से इस्तीफा देने वाले शाह फैसल ने शुक्रवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि उन्होंने अपने पद से इस्तीफा इसलिए दे दिया क्योंकि उन्हें लगता है कि देश के मुसलमान हाशिए पर जा रहे हैं और सरकार सीबीआई और आरबीआई जैसी संस्थाओं की शक्तियों को कम करने का काम कर रही है. 2010 बैच के आईएएस अधिकारी रहे शाह फैसल जम्मू कश्मीर के पहले शख्स हैं जिन्होंने यूपीएससी में टॉप में किया था. शाह फैसल ने कहा कि ‘नौकरी में रहते उनके लिए अल्पसंख्यकों को हाशिए पर जाता देखना और बोलने की आजादी पर प्रतिबंध लगता देखना असंभव होता जा रहा था इसलिए उन्होंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया. आज मैने नौकरी छोड़कर बोलने को चुना और आज मुझे बहुत सुकून मिल रहा है.’

उन्होंने आगे कहा कि पिछले कुछ सालों में जिस तरीके से राष्ट्रवाद के नाम पर मॉब लिंचिंग की घटनाएं बढ़ रही हैं उससे मुसलमान बेहद हाशिए पर चले जा रहे थे जो मेरी घुटन का बड़ा कारण बनते जा रहे थी. मैं भी अपनी आपत्ति दर्ज करना चाहता था जिसकी वजह से मैनै इस्तीफा दे दिया. 

जिस तरह भारत में चुनाव जीतने के लिए हेट स्पीच का इस्तेमाल किया जा रहा है और बोलने की आजादी को नियंत्रित किया जा रहा है उससे देश में असहिष्णुता बढ़ रही है. उन्होंने कहा कि मैं जमीनी स्तर तक जाकर लोगों की मदद करना चाहता हूं. राजनीति में आने के सवाल पर शाह फैसल ने कहा कि फिलहाल उन्होंने किसी राजनीतिक पार्टी में शामिल होने की नहीं सोची है.

Open Letter to Shah Faisal: हाशिए पर मुसलमानों की हालत का हवाला देकर आईएसएस पद से इस्तीफा देने वाले शाह फैसल के नाम खुला खत

IAS Shah Faesal Joins NC: कश्मीरी आईएएस टॉपर शाह फैसल इस्तीफा देकर नेशनल कॉन्फ्रेंस में शामिल, कहा- देश में बढ़ रही है असहिष्णुता

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App