नई दिल्ली. दिल्ली में वायु प्रदुषण का स्तर काफी बढ़ रहा है, इसके चलते सुप्रीम कोर्ट ने ( SC on Delhi Pollution ) केंद्र सरकार और राज्य सरकारों को फटकार लगाई है. प्रदुषण के इस बढ़ते कहर को देखते हुए सु्प्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को प्रदुषण को रोकने के लिए जल्द से जल्द कोई ठोस कदम उठाने को कहा है.

जरूरत पड़े तो लॉकडाउन लगाएं : CJI एन वी रमना

देशभर में वायु प्रदूषण का कहर बढ़ते ही जा रहा है, लगातार रोज़ प्रदूषण की बिगड़ती स्थिति वाकई चिंता में डालने वाली है. प्रदूषण की बढ़ती समस्या को लेकर आज सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले पर सुनवाई की. सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को फटकार लगते हुए प्रदूषण से निपटने के तत्काल उपाय निकालने को कहा है. इस मामले पर सुनवाई के दौरान CJI एन वी रमना ने कहा कि “हमें तत्काल नियंत्रण के उपाय चाहिए. जरूरत पड़ी तो 2 दिन के लॉकडाउन या कुछ और सोचें. वरना लोग कैसे रहेंगे? राजनीति और सरकार से ऊपर उठकर काम करने की जरूरत है.”

प्रदूषण के मामले पर सुप्रीम कोर्ट काफी गंभीर है, सुप्रीम कोर्ट ने सरकार को प्रदूषण से निपटने के लिए दो दिन का लॉकडाउन लगाने की सलाह भी दी है. दिल्ली में प्रदूषण से बिगड़ते हालातों को देखते हुए दिल्ली सरकार स्कूलों को कुछ दिनों के लिए बंद करने पर विचार कर रही है. सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में दिल्ली सरकार से जल्द से जल्द हलफनामा दाखिल करने को कहा है. अब इस मामले की अगली सुनवाई 15 नवंबर को होनी है.

दिल्ली में AQI ‘बेहद गंभीर’ श्रेणी में दर्ज

राजधानी में इन दिनों खराब हवा का दौर चल रहा है, दिल्ली की आबोहवा बेहद खराब श्रेणी में दर्ज की गई है. सफर इंडिया द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक दिल्ली का AQI ‘बेहद गंभीर’ श्रेणी में 499 दर्ज किया गया. साथ ही, प्रदूषण पर नज़र रखने वाली संस्था आईक्यू एयर द्वारा दुनिया के 10 सबसे प्रदूषित शहरों की सूची जारी की गई है, जिसमें दिल्ली शीर्ष पर है. वहीं नोएडा में भी AQI बेहद गंभीर श्रेणी में 772 दर्ज किया गया.

यह भी पढ़ें :

Delhi Pollution: राजधानी में प्रदूषण का बढ़ता कहर, दिल्ली की हवा सांस लेने लायक नहीं

Akhil Bhartiya Rajbhasha Sammelan हमें राजभाषा को मजबूत करने की जरूरत : शाह

 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर