नई दिल्ली. SC Hearing In Ayodhya Land Dispute Case: अयोध्या राम जन्मभूमि जमीन विवाद मामले की आज शुक्रवार 9 अगस्त को लगातार पांचवे दिन सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हो रही है, जिसका मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन ने कड़ा विरोध किया है. दरअसल, सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि अयोध्या विवाद मामले की हफ्ते में तीन दिन सुनवाई होगी. मुस्लिम पक्ष ने हफ्ते में 3 दिन ही सुनवाई की मांग की थी. लेकिन लगातार पांच दिनों से चल रही अयोध्या राम जन्मभूमि विवाद की सुनवाई पर मुस्लिम पक्ष ने नाराजगी जाहिर करते हुए कहा है कि सुप्रीम कोर्ट परंपरा तोड़ कर कर मामले की सुनवाई कर रहा है, जो कि अमानवीय है. राजीव धवन ने कहा है कि सुप्रीम कोर्ट में लगातार सुनवाई का तरीका टॉर्चर करने वाला है और मुस्लिम पक्ष को इसपर आपत्ति है.

आज सुप्रीम कोर्ट में मामले की सुनवाई फिर शुरू हुई. यह मामले में दिन-प्रतिदिन की सुनवाई का चौथा दिन है. अयोध्या भूमि विवाद मामले में एक मुस्लिम पक्षकार की ओर से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता राजीव धवन ने अदालत को बताया कि एक अफवाह है कि अदालत मामले की सुनवाई के लिए पूरे पांच दिन बैठेगी. उन्होंने पांच दिन की सुनवाई पर आपत्ति उठाई. सीनियर एडवोकेट आर धवन का कहना है कि अगर हफ्ते में 5 दिन सुनवाई होती है तो यह अमानवीय है और हम अदालत की सहायता नहीं कर पाएंगे. सुनवाई में तेजी नहीं की जा सकती है. मुझे यह केस छोड़ने के लिए मजबूर होना पड़ेगा. इस पर सीजेआई रंजन गोगोई ने कहा, हमने आपकी शिकायत सुनी है, हम आपको जल्द ही सूचित करेंगे.

दरसअल इस सोमवार को बकरीद को लेकर गेजटेड हॉलीडे है, लिहाजा सुप्रीम कोर्ट बंद है. इस वजह से जिन मामलों की सुनवाई सोमवार को होनी थी उनको मंगलवार को कोर्ट सुनेगा और मंगलवार को अयोध्या राम जन्मभूमि सूचीबद्ध होने का मतलब है कि मामले को सुनवाई अब रोजाना होगी. कल ही इस सुनवाई को सूचीबद्ध कर ये इशारा किया है कि सुप्रीम कोर्ट इस मामले को सोमवार से शुक्रवार तक पांचों दिन सुनवाई को तैयार है.

Ayodhya Ram Mandir-Babri Masjid Case: हफ्ते के पांचों दिन अयोध्या राम जन्मभूमि मामले की सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट, शुक्रवार को होगी अगली सुनवाई

SC Hearing on Ayodhya Ram Mandir Land Dispute: अयोध्या राम मंदिर भूमि विवाद मामले पर सुप्रीम कोर्ट में तीसरे दिन सुनवाई, SC के सामने वकील ने कहा- जन्मस्थान को सटीक जगह की आवश्यकता नहीं

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App