नई दिल्ली.  तीनों कृषि कानूनों को लेकर तमाम राजनितिक दल और हस्तियां मोदी सरकार को घेरने में जुटी हैं. हालांकि इसी दौरान पीएम नरेंद्र मोदी ने गुरु पर्व पर तीनों कानूनों को वापस लेने का ऐलान कर दिया.  इस बीच मीडिया पर मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ( Satyapal Malik ) का वीडियो खूब वायरल हो रहा है जिसमें उन्हें साफ़ तौर पर ऐसा कुछ कहते सुना जा सकता है जो कि संवैधानिक पद पर बैठा व्यक्ति नहीं बोल सकता.

सतपाल मलिक ने वीडियो में क्या कहा

सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो में राज्यपाल सत्यपाल मलिक कह रहे हैं कि मैं जब पीएम मोदी से मिलने गया तो उन्हें सलाह दी थी. मोदी अगर कृषि कानून वापस नहीं लेते तो उनका हाल इंदिरा गांधी जैसा होता.

उन्होंने वीडियो में आगे कहा मैं उनसे मिलने गया तो मैंने उन्हें कहा कि आप गलतफहमी में हैं. न तो इन सिखों को हराया जा सकता है, इनके गुरु के चारों बच्चे उनकी मौजूदगी में खत्म हुए थे, लेकिन उन्होंने सरेंडर नहीं किया. इन जाटों को भी नहीं हराया जा सकता है. आप यह सोचते हों कि ये ऐसे ही चले जाएंगे, इन्हें कुछ ले-देकर भेज दो. मैंने उनसे कहा कि दो काम तो बिल्कुल भी मत करना, एक तो इनपर बल प्रयोग मत करना और दूसरा इन्हें खाली हाथ मत भेजना, क्योंकि यह भूलते भी नहीं हैं. इंदिरा गांधी ने जब अकाल तख्त तोड़ा था तो उन्होंने फार्म हाउस पर महामृत्युंजय का यज्ञ करवाया था. उन्होंने खुद कहा था कि मैं दावे से कह सकती हूं कि ये मुझे मारेंगे.

सत्यपाल मलिक के वीडियो पर भड़के फिल्म निर्माता अशोक पंडित

सरकार के तीनों कृषि कानूनों की वापसी पर राज्यपाल सत्यपाल मलिक का वीडियो वायरल हुआ तो उनके बोल पर फिल्म निर्माता अशोक पंडित भड़कते हुए नज़र आए. इसके चलते उन्होंने ट्विट कर के अपनी प्रतिक्रिया ज़ाहिर की. उन्होंने ट्वीट में लिखा सत्यपाल मलिक ने कहा कि अगर पीएम नरेंद्र मोदी ने कृषि कानूनो को वापस नहीं लिया होता तो उनका हाल भी इंदिरा गांधी, जनरल वैद्य और जनरल डायर जैसा होता. उन्हें अपने इस गैर जिम्मेदाराना बयान के लिए इस्तीफा देना चाहिए.

यह भी पढ़ें :

Bharat Gaurav Train: मोदी सरकार के बड़ा ऐलान, किराये पर लेकर ट्रेन चलाएं और कमाएं

Police Flag Day पर सीएम योगी को यूपी के डीजीपी और एडीजी ने किया सम्मानित

 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर