नई दिल्ली. भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी उनकी और उनकी पत्नी साक्षी धोनी का नाम रियल एस्टेट डेवलपर आम्रपाली ग्रुप के विवाद में आ रहा है. हालांकि इस मामले को लेकर दोनों ने साफ मना कर दिया है कि आम्रपाली ग्रुप से उनका कोई मतलब नहीं है. आम्रपाली ग्रुप पर हजारों घर खरीदारों के पैसे की धोखाधड़ी करने और आवास परियोजनाओं को पूरा नहीं करने का आरोप लगाया गया है. इसके साथ ही इस मामले में एक नया मामला और सामने आया जिसमें कहा गया कि एमएस धोनी की पत्नी साक्षी की कंपनी में आम्रपाली के हजारों होम बायर्स का पैसा ट्रांसफर किया गया था.

सुप्रीम कोर्ट में एक ऑडिट रिपोर्ट में आरोप लगाया कि क्रिकेटर एमएस धोनी और उनकी पत्नी साक्षी धोनी से जुड़ी कंपनियां अवैध रूप से धन निकालने के लिए आम्रपाली ग्रुप द्वारा उपयोग की गई हैं. हालांकि इन आरोपो को धोनी और उनकी पत्नी ने गलत बताया है और कोर्ट ने कंपनी के मैनेजमेंट के खिलाफ जांच का आदेश दिया है और सरकारी स्वामित्व वाली नेशनल बिल्डिंग कंस्ट्रक्शन कॉरपोरेशन से आम्रपाली के अधूरे आवास परियोजनाओं को पूरा करने के लिए कहा है. इस खबर में जानिए आखिर एमएस धोनी और साक्षी का आम्रपाली ग्रुप से क्या कनेक्शन है.

आम्रपाली के साथ कैसे जुड़ा एमएस धोनी का नाम?

महेंद्र सिंह धोनी का आम्रपाली समूह के साथ नाम तब जुड़ा जब वो इस रियल एस्टेट कंपनी के ब्रांड एंबेसडर के रूप में जुड़े. एमएस धोनी छह से सात साल तक आम्रपाली ग्रुप के ब्रांड एंबेसडर रहे, जिस अवधि के दौरान उन्होंने रियल एस्टेट डेवलपर के लिए विज्ञापन शूट किए. उत्तर प्रदेश में आम्रपाली परियोजना में घर का आवंटन ना होने से नाराज लोगों ने सोशल मीडिया पर क्रिकेटर एमएस धोनी को टैग करके आम्रपाली के खिलाफ लिखना शुरू किया. धोनी ने 2016 में खुद को विवाद के बीच फंसा पाया. नोएडा के आम्रपाली सैफायर के निवासियों ने धोनी से कहा कि वे रियल एस्टेट समूह से खुद को अलग कर लें या अपनी लंबित परियोजनाओं को पूरा करें. सोशल मीडिया विवाद के बाद, एमएस धोनी ने आम्रपाली ग्रुप के ब्रांड एंबेसडर के रूप में पद छोड़ दिया.

सुप्रीम कोर्ट में प्रस्तुत एक ऑडिट रिपोर्ट के अनुसार, एमएस धोनी रिती स्पोर्ट्स के माध्यम से आम्रपाली विवाद में शामिल हैं. रिति स्पोर्ट्स मैनेजमेंट एक स्पोर्ट्स मार्केटिंग और मैनेजमेंट कंपनी है जिसमें एमएस धोनी के प्रमुख शेयर हैं. ऑडिट रिपोर्ट में दावा किया गया है कि 2009 और 2015 के बीच, आम्रपाली समूह ने रिती स्पोर्ट्स को कुल 42.22 करोड़ रुपये का भुगतान किया. इस राशि में से 6.52 करोड़ रुपये का भुगतान आम्रपाली नीलम डेवलपर्स द्वारा किया गया था.

ऑडिट रिपोर्ट में कहा गया है कि आम्रपाली ग्रुप और रिति स्पोर्ट्स इस अवधि के दौरान कई समझौतों में शामिल हुए. हालांकि, ऑडिट रिपोर्ट में ये भी लिखा है कि ये दिखावे के समझौते थे जो सिर्फ रिति स्पोर्ट्स मैनेजमेंट प्राइवेट लिमिटेड को राशि के भुगतान के लिए किए गए थे. ऑडिट रिपोर्ट के अनुसार आम्रपाली नीलम डेवलपर्स द्वारा रिति स्पोर्ट्स को दिए गए 6.52 करोड़ रुपये वास्तव में घर खरीदारों के थे और जिसे अवैध रूप से डायवर्ट किया गया था. एक ऑडिट रिपोर्ट में रिति स्पोर्ट्स और आम्रपाली समूह के बीच के सौदे के बारे में बताया गया है. इसमें कहना है कि एमएस धोनी की पत्नी साक्षी धोनी आम्रपाली माही डेवलपर्स में निदेशक थीं.

Supreme Court Amrapali Builder Verdict NBCC To Complete Buyers Flats: सुप्रीम कोर्ट ने ईडी, फेमा को दिया आम्रपाली हाउसिंग ग्रुप के फ्रॉड के जांच का आदेश, RERA और लीज भी किया रद्द, NBCC बनाएगा अधूरे घर

Amrapali Group Housing Scam: आम्रपाली हाउसिंग स्कैम मामले में बढ़ सकती हैं महेंद्र सिंह धोनी और पत्नी साक्षी धोनी की मुश्किलें, फॉरेंसिक ऑडिटर ने सुप्रीम कोर्ट को सौंपी रिपोर्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App