नई दिल्ली. मालेगांव 2008 ब्लास्ट मामले की मुख्य आरोपी साध्वी सिंह ठाकुर के शुक्रवार को दिए विवादित बयान पर बवाल मच गया है. उन्होंने कहा कि 26/11 हमले में शहीद हुए मुंबई एटीेएस के चीफ हेमंत करकरे ने उनके साथ ”बहुत बुरा” बर्ताव किया था. उन्होंने कहा कि करकरे अपने कर्मों की वजह से मरे. वह मुझे किसी भी तरह आतंकवादी घोषित करना चाहते थे. हालांकि बीजेपी ने साध्वी प्रज्ञा के बयान से पल्ला झाड़ दिया है और स्टेटमेंट जारी कर कहा कि यह साध्वी प्रज्ञा का निजी बयान है. बीजेपी हमेशा से हेमंत करकरे को शहीद मानती आई है. अब खबर है विवाद बढ़ता देख साध्वी प्रज्ञा ने अपने बयान पर माफी मांग ली है. उन्होंने कहा कि मैं अपना बयान वापस लेती हूं. व्यक्तिगत कारणों की वजह से उन्होंने ये बयान दिया था. 

साध्वी ने बयान में कहा, ”हेमंत करकरे ने मुझे मालेगांव ब्लास्ट मामले में झूठे आरोप में फंसाया और मेरे साथ बहुत बुरा बर्ताव किया. मैंने उससे कहा था कि तेरा सर्वनाश होगा. ठीक सवा महीने तक सूतक लगतार है. जिस दिन मैं गई थी उस दिन इसके सूतक लग गया था. ठीक सवा महीने में जिस आतंकवादियों ने इसको मारा, उस दिन उसका अंत हुआ.” प्रज्ञा ठाकुर ने भोपाल में मीडिया से बातचीत में प्रताड़ना के कई आरोप लगाए. उन्होंने कहा कि 10 अक्टूबर 2008 को एटीएस मुझे सूरत से मुंबई ले गई. यहां 13 दिनों तक बंधक बनाकर रखा गया. इस दौरान एटीएस के अफसरों ने उन्हें बहुत यातनाएं दीं.  

देखें वीडियो:

मीडिया से बातचीत के दौरान साध्वी के आंसू भी छलक पड़े. उन्होंने कहा, मेरा विवादों से कभी नाता नहीं रहा. मेरे खिलाफ साजिश रची गई. मुझे गिरफ्तारी के बाद कई बार प्रताड़ित किया गया. मुझे बहुत दिनों तक सिर्फ पानी ही दिया जाता था. रात-रात भर पीटा जाता था. उन्होंने कहा, मैं नहीं चाहती कि अब किसी अन्य महिला को प्रताड़ना झेलनी पड़े. मैं वोट की भिक्षा इस चुनाव में मांग रही हूं. अगर आपने ऐसा किया तो देश के कर्ज से मुक्त होने की कोशिश कर ली.

वहीं दूसरी ओर भारतीय जनता पार्टी की ओर से बयान जारी कर इस साध्वी प्रज्ञा के बयान से पल्ला झाड़ दिया है. बीजेपी के मुताबिक यह साध्वी प्रज्ञा का निजी बयान है. पार्टी हेमंत करकरे को हमेशा शहीद मानती आई है. साध्वी प्रज्ञा सालों तक शारीरिक और मानसिक प्रताड़ना से गुजरीं इसलिए उन्होंने ऐसा बयान दिया है. 

कांग्रेस पर बोला था हमला: उन्होंने आगे कहा कि आतंकवाद से हिंदू को कांग्रेस ने जोड़ा है. एक महिला को यातनाएं दी गईं. दिग्विजय सिंह सबूत मांग रहे हैं और उन्हें सबूत दिए जाएंगे. साध्वी ने आगे कहा कि एक महिला को कैसे प्रताड़ित किया गया. कानून कैसे तोड़ा गया. यह सब साजिश के तहत हुआ है. वह इन मुद्दों के साथ जनता के बीच जाएंगी. 17वीं लोकसभा के गठन के लिए देश में आम चुनाव चल रहे हैं. 11 अप्रैल से 19 मई तक सात चरणों में चुनाव होंगे. नतीजों का ऐलान 23 मई को किया जाएगा. 

NIA Court On Sadhvi Pragya Bhopal BJP Candidate: मालेगांव विस्फोट की आरोपी साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को भोपाल से बीजेपी टिकट पर लोकसभा चुनाव लड़ने से बैन करने की मांग, एनआईए कोर्ट ने मांगा जवाब

Hardik Patel Slapped Video: कांग्रेस नेता हार्दिक पटेल को चुनावी सभा में एक शख्स ने मंच पर आकर जड़ा थप्पड़

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App