Sachin Pilot Moves Rajasthan High Court: राजस्थान विधानसभा स्पीकर डॉ. सीपी जोशी की ओर से सदन की सदस्यता खत्म किए जाने को लेकर जारी नोटिस ने सचिन पायलट और उनके 18 साथी बागी विधायकों की मुश्किलें बढ़ा दी हैं. दरअसल, संविधान की दसवीं अनुसूची के तहत स्पीकर को पर्याप्त शक्तियां मिली हुई हैं और इनके तहत पायलट बहस तो कर सकते हैं लेकिन अंतिम फैसला स्पीकर ही लेंगे. ऐसे में गुरुवार को सचिन पायलट गुट राजस्थान हाईकोर्ट पहुंच गया है.

कोर्ट में स्पीकर के नोटिस के खिलाफ याचिका पेश की गई. सूत्रों के अनुसार दोपहर 3 बजे इस मामले में कोर्ट में सुनवाई हो सकती है. विधानसभा स्पीकर के नोटिस के बाद से पायलट गुट के सुप्रीम कोर्ट का रुख करने की अटकलें लगाई जा रही थी. अब उन्होंने हाईकोर्ट में विप की वैधानिकता को चुनौती दी है.सचिन पायलट गुट ने कानूनी सलाहकारों की राय के बाद यह कदम उठाया है.

माना जा रहा है कि अगर विप की वैधानिकता पर सचिन पायलट गुट को हाई कोर्ट से कोई आदेश या स्टे मिल जाता तो उनकी विधानसभा सदस्यता पर कोई खतरा नहीं रहेगा. इससे पहले कांग्रेस के मुख्य सचेतक डॉ. महेश जोशी की याचिका पर राजस्थान विधानसभा सचिवालय की ओर से सचिन पायलट समेत 19 विधायकों को नोटिस थमाया था.

कांग्रेस विधायक दल की हालिया बैठकों में शामिल नहीं होने को लेकर इस नोटिस में विधायकों को अयोग्य ठहराए जाने की मुख्य सचेतक की याचिका का हवाला दिया गया था. सचिन पायलट और उनके समर्थकों से 3 दिन के भीतर जवाब मांगा गया था. बता दें कि सचिन पायलट ने बीजेपी में जाने से इनकार कर दिया है. अब देखना दिलचस्प होगा कि सचिन पायलट अपने राजनीतिक भविष्य को लेकर क्या फैसला लेते हैं.

Randeep Surjewala On Sachin Pilot: रणदीप सुरजेवाला बोले- सचिन पायलट BJP में नहीं जाना चाहते, तो उनके नेताओं से बंद करें बात

Cyber attack in America: बीती रात ट्विटर पर साइबर हमला, हैकर्स ने लोगों को ऐसे लगाया लाखों का चूना

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर