जयपुर: 14 अगस्त से राजस्थान विधानसभा के प्रस्तावित सत्र से कुछ दिन पहले राज्य में सियासी हलचल तेज हो गई है. 18 विधायकों के साथ बागी हुए सचिन पायलट ने सोमवार को राहुल गांधी और प्रियंका गांधी से मुलाकात की और विस्तार से अपना पक्ष रखा. पार्टी सूत्रों के मुताबिक शीर्ष नेतृत्व ने दोनों पक्षों को सुनने के बाद उनकी समस्याओं के समाधान का भरोसा दिलाया है.

जानकारी के मुताबिक राहुल और प्रियंका के साथ सचिन पायलट की करीब डेढ़ घंटे तक मीटिंग चली. इसके बाद भी दोनों नेता राहुल गांधी के आवास से निकले और किसी अज्ञात जगह पर फिर बैठक हुई. माना जा रहा है कि सचिन पायलट और राहुल गांधी के बीच हुई मुलाकात से राजस्थान में पिछले एक महीने से चले आ रहे सियासी संकट का कोई समाधान निकलेगा और दोनों गुट के बीच कोई मिनिमम प्रोग्राम के तहत कोई बीच का कोई रास्ता बनेगा.

गौरतलब है कि राजस्थान विधानसभा सत्र शुरू होने से पहले सीएम अशोक गहलोत अपने सभी विधायकों के साथ रिजॉट में हैं और अब 14 अगस्त को सभी विधायकों को लेकर विधानसभा जाएंगे और बहुमत साबित करेंगे. संकट की घड़ी सचिन पायलट खेमे के लिए है क्योंकि सचिन पायलट के भरोसे जो विधायक उनके साथ आए थे वो अब घर वापसी की राह देख रहे हैं. प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष और उप मुख्यमंत्री के पद से हटाए जाने के बाद खुद सचिन पायलट का रूख नरम पड़ गया है और वो अब सुलह की कोशिशें कर रहे हैं. बागी रुख अपनाने के साथ ही सचिन पायलट कई बार स्पष्ट कर चुके हैं कि वह भाजपा में शामिल नहीं होंगे.

Rajasthan Political Crisis: सचिन पायलट के ढीले पड़े तेवर तो अब कांग्रेस आलाकमान ने दिखाई सख्ती, राहुल गांधी ने नहीं दिया मिलने का समय

Rajasthan political crisis: राजस्थान में सियासी हलचल तेज, अशोक गहलोत खेमे के विधायक जैसलमेर होंगे शिफ्ट