नई दिल्ली. कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री एसएम कृष्णा ने शनिवार को राहुल गांधी को लेकर कहा कि उनके लगातार हस्तक्षेप के कारण मुझे अपना विदेश मंत्री का पद और कांग्रेस पार्टी से इस्तीफा देना पड़ा था. राहुल गांधी के लगातार हस्तक्षेप के कारण में इस पद पर काम नहीं कर पा रहा था, इसके साथ ही उन्होंने कहा दस साल पहले राहुल एक सांसद थे और उन्होंने पार्टी का कोई पद नहीं संभाला, लेकिन सभी मामलों में हस्तक्षेप करने लगे थे. हालांकि जब प्रधानमंत्री डॉक्टर मनमोहन सिंह थे लेकिन कई मामलों को उनके संज्ञान में लाए बिना ही किया फिर इसके बाद 2 जी स्पेक्ट्रम, कॉमनवेल्थ और कोयला घोटाले सामने आए थे. वहीं गठबंधन दलों पर कांग्रेस का कोई नियंत्रण नहीं था.

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि राहुल मनमोहन से अधिक शक्तिशाली थे और इससे देश में भ्रष्टाचार बड़े स्तर पर बढ़ा और राहुल गांधी ने ही फैसला किया था कि पार्टी को 80 साल से ऊपर के लोगों की जरूरत नहीं है. वहीं एसएम कृष्णा ने कहा कि साल 2009 से 2014 तक मैं यूपीए सरकार में सत्ता में था, तब मैं सभी अच्छी और बुरी चीजों के लिए समान रूप से जिम्मेदार था.

इसके बाद एसएम कृष्णा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरदार वल्लभभाई पटेल से तुलना करते हुए कहा कि अब देश को एकजुट रखने के लिए पीएम मोदी के नेतृत्व की जरूरत है. हालांकि अब देश को विकास की पटरी पर लाने और भ्रष्टाचार मुक्त और पारदर्शी शासन देने के लिए जनता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जैसा ही देश के लिए प्रधानमंत्री चाहती है.  

Robert Vadra ED Probe: मनी लॉन्ड्रिंग मामले में ईडी ने रॉबर्ट वाड्रा से तीसरे राउंड की पूछताछ में दागे आर्म्स डीलर संजय भंडारी से जुड़े सवाल

PM Narendra Modi UP Vrindavan: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वृंदावन में स्कूली बच्चों संग करेंगे भोजन, अक्षय पात्र फाउंडेशन की 300 करोड़वीं थाली परोसेंगे

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App