नागपुर: राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ (आरएसएस) प्रमुख मोहन भागवत  ने नरेंद्र मोदी सरकार की जमकर तारीफ की है. सरसंघचालक मोहन भागवत ने कहा कि देश में साहसिक फैसले लेने वाली सरकार है. बहुत दिनों बाद ऐसा लग रहा है कि देश में कुछ हो रहा है. जम्मू कश्मीर से धारा 370 के प्रावधानों को खत्म करने के फैसले की सराहना करते हुए संघ प्रमुख  ने कहा कि जम्मू कश्मीर पर सबको साथ लेकर फैसला किया गया है. बता दें कि आज ही के दिन 1925 में आरएसएस की स्थापना हुई थी. मोहन भागवत इसी मौके पर संघ के पथ संचालन कार्यक्रम में बोल रहे थे. 

मोहन भागवत के संबोधन की मुख्य बातें जानिए

जम्मू कश्मीर पर ऐतिहासिक फैसला- दोबारा चुनकर आई मोदी सरकार का आर्टिकल 370 को अप्रभावी करने के फैसले ने एक बार फिर साबित किया है कि इसमें साहस है कि जनभावना का सम्मान करते हुए राष्ट्रहित में वह कड़े फैसले ले सकती है. 

 मॉब लिंचिंग की घटनाओं का संघ से संबंध नहीं: आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने मॉब लिंचिंग की घटनाओं पर कहा कि देश में कुछ लोग नफरत फैलाने की राजनीति करना चाहते हैं. मॉब लिंचिंग की घटनाओं को भी बढ़ा चढ़ाकर बताया जाता है. लिंचिंग की घटनाओं के साथ जबरन संघ का नाम जोड़ा गया जबकि मॉब लिंचिंग की एक भी घटना में संघ का हाथ नहीं था. उन्होंने कहा कि भारतीय लोकाचार में लिंचिंग जैसा कोई शब्द नहीं है, इसे जबरन हम पर न थोपा जाए. कानून हाथ में लेने का हक किसी को नहीं है. जरूरत पड़े तो सरकार को ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए कड़े कानून बनाने चाहिए. 

शिक्षा पर संघ प्रमुख मोहन भागवत ने क्या कहा, पढ़ें सिलसिलेवार तरीके से

महिला सम्मान के मुद्दे पर आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने क्या कहा- पढ़ें सिलसिलेवार तरीके से

आरएसएस सभी धर्म के लोगों की संस्था है: संघ प्रमुख मोहन भागवत

भारत एक हिंदू राष्ट्र है: संघ प्रमुख मोहन भागवत

संघ के लिए हिंदू कौन है?

संघ प्रमुख मोहन भागवत ने इस कविता के साथ अपने भाषण को समाप्त किया

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के पूरे भाषण का हिंदी सार संघ ने अपने ट्विटर हैंडल पर शेयर किया है

Read Also ये भी पढ़ें: 

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने की नरेंद्र मोदी सरकार की तारीफ, कहा- देश में साहसिक फैसले लेने वाली सरकार है

 आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने दिया विवादित बयान, कहा- भारत एक हिंदू राष्ट्र है, इसमें कोई बहस नहीं

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App