श्रीनगर. कश्मीर के बड़े अखबार राइजिंग कश्मीर संपादक शुजात बुखारी की गुरुवार की शाम श्रीनगर के प्रेस कॉलोनी में अखबार के दफ्तर के बाहर अज्ञात हमलावरों ने गोली मारकर हत्या कर दी. मिल रही खबर के मुताबिक शुजात बुखारी पर हमलावरों ने अंधाधुंध कई गोलियां चलाई जिसमें उनके अलावा उनके साथ रहे दो पुलिस बॉडीगार्ड भी घायल हुए थे. एक गार्ड की मौत हो गई है जबकि दूसरा गंभीर रूप से घायल है.

शुजात बुखारी की हत्या पर गृहमंत्री राजनाथ सिंह, जम्मू कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती, पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला समेत कई नेताओं और पत्रकारों ने दुख जताते हुए इसे मीडिया पर कायरतापूर्ण हमला करार दिया है. ये हमला तब हुआ जब वो अपने दफ्तर से निकल रहे थे. गोलियां काफी करीब से मारी गई है. कश्मीर में काफी अर्से बाद पत्रकारों पर इस तरह का यह पहला कातिलाना हमला है. शुजात पर पहले भी हमला हुआ था और 2000 से उनको पुलिस सुरक्षा भी मिली हुई थी.

जम्मू कश्मीर के डीजीपी एसपी वैद ने हत्या में आतंकियों के हाथ होने का इशारा करते हुए कहा है, “ये बहुत दुर्भाग्यपूर्ण घटना है. जब शुजात बुखारी अपने दफ्तर से रात 7.30 बजे निकलकर कार में बैठ रहे थे तो मोटरसाइकिल पर सवार तीन आतंकवादियों ने गोलियां बरसा दी. हमले में उनके दोनों सुरक्षा गार्ड भी घायल हुए जिनमें एक की मौत हो चुकी है और दूसरा गंभीर रूप से घायल है. आतंकियों ने इफ्तार का समय चुना जिस समय हर आदमी रोजा तोड़ने के लिए घर जाने की हड़बड़ी में होता है.”

शुजात बुखारी पत्रकारिता के अलावा कश्मीर में शांति के प्रयासों में हमेशा सक्रिय रहने वालों में शामिल थे और इसके लिए कई बार कई तरह के आयोजन भी करते रहते थे. ये हमला ठीक उस दिन हुआ है जब दिल्ली में गृहमंत्री राजनाथ सिंह कश्मीर में सुरक्षा हालात की समीक्षा कर रहे थे जिसमें अमरनाथ यात्रा का सुरक्षित आयोजन एजेंडे पर सबसे ऊपर था. केंद्र सरकार ने रमजान तक सेना की तरफ से बिना उकसावे के एक्शन पर शांतिविराम की घोषणा कर रखी है जिसके अब ईद के आगे बढ़ने के आसार नहीं हैं.

जम्मू-कश्मीरः सेना के कैंप पर बड़ा आतंकी हमला नाकाम, ग्रेनेड फेंक भाग खड़े हुए आतंकवादी

अमरनाथ यात्रियों की सुरक्षा के लिए बेहतर तकनीक और ज्यादा सैनिक तैनात करेगी सरकार

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App