आंध्र प्रदेश. Heavy rain बंगाल की खाड़ी में बने डिप्रेशन की वजह से आंध्र प्रदेश (Andhra Pradesh) के कई तटीय जिलों में भारी बारिश हुई है. आंध्रप्रदेश के नेल्लूर, चित्तूर, कड़पा, जिलों में गुरुवार से तेज बारिश हो रही है, जिसके चलते कई इलाकों में बाढ़ जैसे हालत हो गए हैं। तमिलनाडु के बाद आंध्रप्रदेश में भारी बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है. हवाई यातायात को भी आंध्रप्रदेश में कुछ समय के लिए स्थगित किया है. तिरुपति हवाई अड्डा के निदेशक एस सुरेश ने बताया कि हैदराबाद और बेंगलुरू से रेनीगुंटा हवाई अड्डे पर उतरने के लिए निर्धारित दो यात्री उड़ानों को खराब मौसम के कारण वापस लौटना पड़ा। खराब मौसम के कारण नयी दिल्ली से तिरुपति जाने वाली एक उड़ान भी रद्द कर दी गई। मौसम विभाग ने अलर्ट के आदेश जारी किए थे, लेकिन मौसम के प्रकोप को देखकर लगता है अगले कुछ दिन आंध्रप्रदेश के लिए भारी रहने वाले हैं।

इन इलाकों में बाढ़ के हालत

बंगाल की खाड़ी से बन रहे डिप्रेशन का सबसे ज़्यादा असर नेल्लूर, चित्तूर, कड़पा, जिलों में देखने को मिला है. इन ज़िलों में लोगों के घरो में पानी घुस गया है, सड़के टूट गई है. रोजमर्रा का सामान लेने के लिए लोगों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है. तिरुमला स्थित विश्व प्रसिद्ध भगवान श्री वेंकटेश्वर स्वामी के मंदिर जाने के लिए घाट रोड में भी भारी बारिश हो रही है, कई जगह चट्टानों के खिसकने की वजह से सड़कों में मलबा आ गया, कई जगह गाड़ियां फंस गई हैं, श्रद्धालुओं को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. गाड़ियां बह रही है, पानी का इतना तेज प्रवाह है कि लगता है सब कुछ बहा ले जाएगा।

तिरुपति में सब जगह पानी 

मंदिर के अधिकारी के मुताबिक तिरुमला में भगवान वेंकटेश्वर के प्राचीन मंदिर तक की मुख्य सड़क को मूसलधार बारिश के कारण गुरुवार शाम से वाहनों की आवाजाही के लिए अनिश्चितकाल के लिए बंद कर दिया गया। अधिकारी ने बताया कि पहाड़ी मंदिर के लिए सीढ़ी वाले मार्ग को भी बंद कर दिया गया है।

यह भी पढ़ें:

Gang Raped : मध्य प्रदेश के मैनपुरी में 5 पुरुषों ने 2 महिलाओं के साथ अलग-अलग मौकों पर सामूहिक बलात्कार किया

Agricultural Laws Withdrawals पीएम का फैसला स्वागत योग्य : तोमर

 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर